विकास की त्रिवर्षीय कार्ययोजना के मसौदे को अंतिम रूप देने की संभावना

नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक 23 अप्रैल को नई दिल्ली में

हमारे संवाददाता

नई दिल्ली । नीति आयोग ने 23 अप्रैल 2017 को अपनी गवर्निंग काउंसिल की बैठक नई दिल्ली में बुलाई है।जिसमें प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में देश के विकास की त्रिवर्षीय कार्ययोजना के मसौदे को अंतिम रुप दिया जा सकता है।जिसके तहत त्रिवर्षीय योजना पंचवर्षीय योजना की जगह लेगी।

दरअसल नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल के अध्यक्ष प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी है और इसमें सभी राज्यों के मुख्यमंत्री बतौर सदस्य शामिल है ।जिसके अतिरिक्त केद्रीय गृह मंत्री और वित्त मंत्री सहित महत्वपूर्ण मंत्रालयों के मंत्री भी इसमें बतौर सदस्य शामिल है ।उल्लेखनीय है कि पिछले बीस माह में यह पहला मौका है जबकि नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की दो बैठकें हुई है।जिसके तहत दोनों ही बैठकें 2015 में हुई थी।ज्ञातव्य हो कि मोदी सरकार की तरफ से नेहरुयुगीन योजना आयोग का समाप्त कर पहली जनवरी 2015 को नीति आयोग के गठन का ऐलान किया था।जिसके तहत नीति आयोग की पहली गवर्निंग काउंसिल की बैठक 8 फरवरी 2015को हुई थी।इसके बाद नीति आयोग की दूसरी गवर्निंग काउंसिल की बैठक 15 जुलाई 2015 को हुई थी।जिसके बाद नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की अभी तक कोई बैठक नहीं हुई है।ऐसे में नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक में देश के वाकस की त्रिवर्षीय कार्ययोजना के मसौदे के अंतिम रुप दिया जा सकता है।यह कार्ययोजना वित्त वर्ष 2017-18 से शुरु होकर 2019-20 तक चलेगी।ऐसे में नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की इस बैठक में सात वर्षीय कार्यनीति और 15 वर्षीय विजन दस्तावेज का खाका भी खाका जा सकता है।नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की इस बैठक में किसानों की स्थिति,देश के कुछ भागों में सूखे के हालात और केद्र तथा राज्यों के बीच अन्य विषयों पर भी चर्चा हो सकती है।इसके अतिरिक्त 31 मार्च 2017 को समाप्त हुई 12 वीं पंचवर्षीय योजना की समीक्षा पर भी चर्चा हो सकती है।

© 2017 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer