चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी ग्रोथ 7.5 % रहने की संभावना
हमारे संवाददाता

नई दिल्ली । चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी ग्रोथ 7.5 प्रतिशत रहने की संभावना है।चूंकि देश में राजकोषीय घाटा और मुद्रास्फीति सहित वृहद आर्थिक बुनियाद काफी मजबूत है।

दरअसल मोदी सरकार के वित्त सचिव अशोक लवासा ने कहा कि पिछले कुछ वर्ष़ों में दुनिया में आर्थिक मंदी का माहौल बना हुआ है।जिसके बावजूद ऐसी स्थिति में भारत ने बढिया ग्रोथ रेट को बनाए रzिंाने में सफलता प्राप्त की है।उन्होंने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि वित्त वर्ष 2017-18 में देश की अर्थव्यवस्था की रफ्तार 7.5 प्रतिशत और इससे अधिक रहेगी।उन्होंने कहा कि यह विकास दर लोगों की अपेक्षाओं के अनुरुप नीं है।बहरहाल विकसित होती अर्थव्यवस्थाओं  और अन्य अर्थव्यवस्थाओं के बीच भारत लगातार एक स्वस्थ दर से आगे बढ रहा है।जिसके तहत चालू खाता घाटा,राजकोषीय घाटा,मुद्रास्फीति और भुगतान संतुलन सहित भारत की वृहद आर्थिक बुनियाद काफी मजबूत है।उन्होंने कहा कि सभी मुदों पर गौर किया जाए तो भारतीय अर्थव्यवस्था एक मजबूत स्थिति में है।ऐसे में हमे लगता है कि भारत में विकास की जो संभावना है वह  किसी अन्य देश में नहीं है।भारत में तेजी से बदलता लाइफस्टाइल और बढते शहरीकरण से बढती मांग के चलने यह संभावना और प्रबल हो जाती है।भारतीय अर्थव्यवस्था में कई सकारात्मक बिंदु है और भारत न सिर्फ एक स्वस्थ रेट से आगे बढेगा बल्कि कई निवेशकों को लेकर लगातार एक आकर्षक गंतव्य भी बना रहेगा।