खादी उद्योग में मिला तीन हजार महिलाओं को रोजगार
हमारे प्रतिनिधि

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री रोजगार निर्माण कार्यक्रम की प्रमुख एजेंसी, केवीआईसी ने पिछले दो वर्ष में महिलाओं के लिए 3000 से अधिक अतिरिक्त स्थायी जाब का निर्माण किया है।

उसने कहा कि महिलाओं को चरखा प्रदान कर ये जाब निर्मित किए गए है ।

ये जाब देशभर के पिछड़े क्षेत्रों में इस कार्यक्रम के तहत निर्मित 4.69 लाख जाब के अतिरिक्त है ।

खादी एवं ग्रामीण उद्योग आयोग ने कहा कि प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के जयापुर, सेवापुरी और ककरिया गांवों में स्थायी रोजगार का निर्माण किया है।

उसने कहा कि ग्रामीण जनता को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जयापुर में कृषक विकास ग्रामोद्योग संस्थान को 25 नए माडल चरखें एवं 5 लूम दिए गए।

केवीआईसी ने प्रशिक्षण देने के लिए जयापुर एवं ककरिया में दो प्रशिक्षण केद्र स्थापित किया है तथा इन गांवों में से प्रत्येक में 25 सोलर चरखा एवं 5 सोलर लूम प्रदान किया है।

इन चरखों का उपयोग करने के लिए 50 स्थानीय महिलाओं को प्रशिक्षण दिया गया है। प्रत्येक प्रशिक्षित महिला को प्रधानमंत्री रोजगार योजना के तहत 80,000 रु. का लोन भी प्रदान किया गया है जिसमें स्पिनिंग का अपना उपक्रम शुरू करने के लिए केवीआईसी द्वारा 35% अनुदान प्रदान किया गया है। अपने घरों से काम करते हुए, ये महिलाएं निश्चित रूप से 200 रु. प्रतिदिन अर्जित करेगी।

सेवापुरी परिसर में लिज्जत पापड़ की यूनिट भी स्थापित की गई है जिसमें 176 स्थानीय महिलाओं को प्रत्यक्ष और 10 को अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान किया गया है।

प्रधानमंत्री श्री नरैद्र मोदी के लोकसभा क्षेत्र वाराणसी में जयापुर,सेवापुरी और कांकरिया गांवों में टिकाऊरोजगार का सृजन किया गया है। जयापुर में ग्रामीण आबादीको आत्मनिर्भर बनाने को लेकर कृषक विकास ग्रामोद्योग संस्थान को 25 नए मॉडल चरखे और पांच हथकरघे दिए गए है ।