टेक्सटाइल क्षेत्र को जीएसटी में राहत देने की मांग

आनंद के. व्यास

नई दिल्ली। जीएसटी काøसिल की शनिवार को होने वाली मीटिंग से पूर्व कांग्रेस ने टेक्सटाइल क्षेत्र को राहत देने की मांग की है। जीएसटी के कारण टेक्सटाइल क्षेत्र को लगभग 40,000 करोड़ रु. का नुकसान हुआ है तथा लगभग 15 लाख रोजगार प्रभावित हुआ है, कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सिंह सूरजेवाला ने उक्त बात कही।

फाइबर की मांग में लगभग 60% हिस्सा मैनमेड फाइबर का है। मैनमेड फाइबर और यार्न, डाइंग और प्रिंटिंग इकाइयों तथा एम्ब्रायडरी पर 18% की दर से जीएसटी लगती है। इससे लघु और सूक्ष्म असंगठित उत्पादक प्रभावित हुए हø तब संगठित क्षेत्र के बड़े खिलाड़ियों को ही इसका फायदा हुआ है।

यार्न के एपरल तक की सभी क्षमता रखने वाले इंटिग्रेटेड प्लांटों को फायदा हुआ है। छोटे व्यापारियों को पूरी इनपुट्स टैक्स क्रेडिट का लाभ न मिलने से छोटा कारोबार घट रहा है।

चीन, बांग्लादेश, श्रीलंका और अन्य देशों से होने वाले आयात पर मात्र 5% टैक्स लगता है, इससे भारतीय टेक्सटाइल उद्योग के समक्ष अस्वस्थकर स्पर्धा पैदा हुई है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने आगे कहा कि टेक्सटाइल उद्योग की, छोटे व्यापारियों और दुकानदारों की यातनाओं की सरकार को उपेक्षा नहीं करनी चाहिए। जीएसटी काøसिल की बैठक में सरकार को इसके समाधान का कदम घोषित करना चाहिए।

© 2017 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer