ग्रे कपड़े के भाव में 4 प्र. श. तक की गिरावट

वीवर्स कपड़े का उत्पादन घटा रहे है
स्थानीय कपड़ा बाजार में दीपावली का कोई उत्साह या उमंग प्रतीत नहीं हो रहा है। ग्रे कपड़े का भाव 2 से 4 प्र. श. जितना घटा है। उठाव खास नहीं है। वीवर्स के पास प्रोग्राम नहीं है और लूम अनसोल्ड चल रहे है । इससे अनेक वीवर्स़ों ने कपड़ा उत्पादन घटा दिया है। भिवंडी 50 प्र. श. बंद है। अहमदाबाद की मिलें और प्रोसेस हाउसों ने विस्तार करने के बाद अब काम के लिए फांफा मार रहे है । इससे कुछ इकाइयां सप्ताह में दो-तीन दिन बंद रहती है ।
जीएसटी के कारण एक तरफ वित्त का निवेश बढ़ गया है। दूसरी तरफ, दिवाली पूर्व का तीन-चार दिन पहले से चेकों का लेन-देन बंद हो जाता है और वह लाभपंचम तक बंद रहता है।
बाहरगांव के सेंटरों में उत्पादन 16 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक बंद रहता है।'
मुंबई की गार्मेन्ट इकाइयां काली चौदस से लाभपंचम तक बंद रहता है।'
जीएसटी की उलझन अब अभी जारी है। ई-वे बिल अभी नहीं आया। इससे कुछ-कुछ जगह पर गलत जीएसटी नंबर लिखकर माल का हेरफेर होता है और दो नंबर का व्यापार वहां बंद होता है।
ग्रे शीटिंग 20/20 56/60 50'' 200 ग्राम का भाव 33.50 से 34 रु. और 170 ग्राम का भाव 25.50 रु. है। इसमें 59'' 200 ग्राम ग्रे का भाव 33.50 रु. है।
सूती पापलीन में खास घटबढ़ नहीं है। 40/40 92/80 50'' ग्रे 28 रु., 92/88 33 रु., 100/92 44 रु. और 124/64 ग्रे 42 रु. का भाव है।
लिनन की मांग ठीक है। मार्केट के 92 प्र. श. व्यापारी पोलिएस्टर मिक्स लिनन बेचना पसंद करते है, कारण कि वह सस्ता पड़ता है। प्योर काटन लिनन बहुत महंगा पड़ता है।
गादी का भाड़ा
आगामी वर्ष 13 महीने का है। मूलजी जेठा मार्केट में दुकानों और गादियों का भाड़ा यथावत रहा है। हालांकि, नारायण चौक, प्रारकेश गली, गोविंद चौक, गोविंद गली, कृष्ण चौक, चंद्रचौक की दुकानों का भाड़ा 2 से 3 प्र. श. जितना बढ़ा है। मार्केट परिसर के बाहर की दुकानों की थोड़ी मांग है। इसके सामने हनुमाग गली, चंपागली, मटका गली, विट्ठलवाड़ी में मानसून सुस्त है।
मूलजी जेठा मार्केट में प्रशासनिक नियंत्रण काफी रहने से वहां का किराया कम है। जबकि उसके मुकाबले मंगलदास यह रिटेल मार्केट होने से भी इसकी मांग अधिक रहती है।
दीपावली की छुट्टी
इसके पहले मंगलदास क्लाथ मार्केट दीपावली के पहले के महीनों में चार-चार रविवार को खुला रहता था लेकिन अब ग्राहकी उतनी न होने से रविवार को खुली नहीं रहती।
मूलजी जेठा मार्केट साफ-सफाई के लिए रविवार, 15 अक्टूबर को खुला रहेगा। सोमवार, 16 अक्टूबर वाघवारस से मार्केट की गादियों का कब्जा नया किराएदार ले लेता है। 17 अक्टूबर, मंगलवार को धनतेरस से व्यापारी गादियों पर बैठते है ।'
कपड़ा बाजार के व्यापारी तीन भाग करते है । पहला भाग व्यापारी धनतेरस से लाभपंचम तक बंद रखते है । दूसरे भाग के व्यापारी 19 अक्टूबर, गुरुवार के दिन दीपावली के दिन चौपड़ा का पूजन कर दुकान बंद कर देते है और ठीक लाभपंच को दुकान खोलते है । तीसरे भाग के व्यापारी 20 अक्टूबर, शुक्रवार को नए वर्ष के लिए मित्ती लिखने और सालमुबारक करने के लिए दुकान खोलते है और दोपहर को ही बंद कर फिर ठीक लाभपंचम को खोलते है । इस तरह, धनतेरस 17 अक्टूबर से लाभपंचम 25 अक्टूबर तक कपड़ा बाजार में हाली-डे मूड रहेगा।
कपड़ा बाजार में गुमास्ताओं को 8.33 प्र. श. बोनस दिया जाता है जो धनतेरस तक भुगतान कर दिया जाएगा।'
शनिवार, 21 अक्टूबर को भाईबीज की छुट्टी है। इससे मंगलदास क्लाथ मार्केट 23 अक्टूबर से ही खुल जाएगा।

© 2017 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer