मोदी सरकार की नीतियां पाइप उद्योग के लिए उत्साहजनक : प्रकाश छाबरिया

मोदी सरकार की नीतियां पाइप उद्योग के लिए उत्साहजनक : प्रकाश छाबरिया
हमारे प्रतिनिधि
मुंबई। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी सरकार की नीतियां पीवीसी पाइप्स और फिटिंग्स उद्योग के लिए काफी उत्साहजनक है और हमारी कंपनी के कामकाज को उससे नया उत्साह प्राप्त हुआ है, फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज के एक्जिक्युटिव चेयरमैन प्रकाश पी. छाबरिया ने एक विशेष साक्षात्कार में उक्त जानकारी दी।
जीएसटी को अर्थव्यवस्था के लिए अति सकारात्मक कदम बताते हुए उन्होंने कहा कि जीएसटी के कारण आपूर्ति श्रृंखला व्यवस्थित बनेगी, बाजार विशाल बनेगा और करचोरी घटेगी। असंगठित क्षेत्र की छोटी-बड़ी कंपनियों के लिए करचोरी कर संगठित क्षेत्र की कंपनियों के साथ अनुचित स्पर्धा करना मुश्किल बनेगा जिसके कारण प्रमाणिक रूप से कामकाज करने वाली कंपनियों को लाभ होगा।
उन्होंने कहा कि कृषि Iण की पद्धति में सुधार आया है और सरकारी नीतियों का लाभ इच्छित लाभार्थियों को सीधे पहुंचने लगा है। सिंचाई और कृषि बीमा के बारे में महत्वाकांक्षी सरकारी योजनाओं से कृषि उपयोग की वस्तुएं बनाने वाले उद्योगों को लाभ होगा। ग्रामीण क्षेत्रों में पानी आपूर्ति और सेनिटेशन योजनाएं, स्मार्ट सिटी पहल, रियल एस्टेट रेग्युलेशन एक्ट और किफायती गृह निर्माण को बढ़ावा से गैर-कृषि क्षेत्र में पाइप्स और फिटिंग्स की मांग को बढ़ावा मिलेगा, जो हमारी जैसी कंपनियों के लिए लाभदायक है।
2016-17 में 2988 करोड़ रु. के टर्नओवर 352.2 करोड़ रु. का शुद्ध लाभ अर्जित करने वाली फिनोलेक्स इंड. कृषि और गैर-कृषि क्षेत्रों के लिए पीवीसी पाइप्स और फिटिंग्स बनाती है। पाइप्स बनाने में प्रयुक्त होने वाले रेजिन्स को भी वह स्वयं ही बनाती है और निजी उपयोग के अलावा उत्पाद बाजार में बेचती है। उसकी कुल आय में पाइप्स और फिटिंग्स का हिस्सा 54%, रेजिन्स का 43% और अन्य उत्पादों का 3% हिस्सा है। उसके कामकाज में कृषि क्षेत्र का 70% और गैर कृषि क्षेत्र का 30% हिस्सा है। पश्चिम और दक्षिण भारत में कुल कृषि क्षेत्र के पाइप्स में वह शीर्ष पर है। लगभग 124 करोड़ रु. की शेयर पूंजी की तुलना में उसका रिजर्व 2167.3 करोड़ रु. है। उसका दीर्घकालीन कर्ज शून्य है। गत वर्ष में उसने 115% लाभांश दिया था।
कंपनी की पुना, रत्नागिरी और बडोदरा में उत्पादन सुविधाएं है जिसकी कुल क्षमता 2.90 लाख टन पाइप्स और फिटिंग्स और 2.72 लाख टन पीवीसी रेजिन्स बनाने की है। इस वर्ष पाइप्स और फिटिंग्स की क्षमता 3.20 लाख टन तक बढ़ायी जाएगी।
गत वर्ष कंपनी ने सीपीवीसी कम्पाउंड के उत्पादन में विश्व में प्रथम क्रमांक रखने वाली अमेरिका की लुब्रिजोल कार्पोरेशन के साथ करार किया था जिसके तहत लुब्रिजोल फिनोलेक्स को फ्लोगार्ड प्लस पाइप्स और फिटिंग्स बनाने के लिए सीपीवीसी कम्पाउंड प्रदान करेगी।
छाबरिया ने कहा आगे चलकर हमारा कृषि और गैर कृषि दोनों क्षेत्रों का हिस्सा एकसमान करने का उद्देश्य है। लुब्रिजोल के साथ सहयोग कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में हमारी उपस्थिति बढ़ाएगा। लगभग 800 डीलरों और 18,000 विक्रेताओं का हमारा नेटवर्क इस ढंग से बढ़ा रहे है कि उत्तर और पूर्व भारत में और कामकाज में गैर-कृषि क्षेत्र का हिस्सा बढ़े। कटक (उड़ीसा), इंदौर (म.प्र.) और दिल्ली में हमने गोदाम स्थापित किया है। मार्केटिंग टीम का विस्तार किया जा रहा है।
जून तिमाही में वाल्यूम 8.2% बढ़ने के बावजूद जीएसटी संबंधी चिंता और बाजार की प्रतिकूल परिस्थिति के कारण भाव दबा रहने से मुनाफे में कमी दर्ज हुई, लेकिन वार्षिक आधार पर कंपनी विकास की गति बरकरार रखेगी, उसमें शंका नहीं है।
कंपनी मुकुल माधव फाउंडेशन के सहयोग से अपने रत्नागिरी, उर्से और वडोदरा के प्लांट के आसपास के गांवों में समाज के कमजोर वर्ग़ों को सहायक होने के लिए विभिन्न प्रवृत्तियां चलाती है । गत वर्ष में उसने समाजोन्मुख प्रवृत्तियों पर 4.34 करोड़ रु. खर्च किया था। मुकुल फाउंडेशन का नेतृत्व श्रीमती रीतु पी. छाबरिया संभालती है ।

© 2017 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer