चिकनकारी के तहत निर्मित रेडीमेड वत्रों से जीएसटी हटाने की मांग

चिकनकारी के तहत निर्मित रेडीमेड वत्रों से जीएसटी हटाने की मांग
चिराग पासवान ने प्रधानमंत्री को भेजा पत्र 
प्रमोद मुजुमदार
नई दिल्ली। शिवसेना के बाद एनडीए की एक अन्य घटक पार्टी, लोक जनशक्ति पार्टी ने जीएसटी की खामियों के बारे में प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित किया है और लखनऊ तथा उसके आसपास के क्षेत्रों में कार्यरत चिकनकारी कला के अंतर्गत निर्मित रेडीमेड वत्रों को जीएसटी से मुक्ति देने की मांग की है।
इस पार्टी के युवा सांसद चिराग पासवान ने प्रधानमंत्री को भेजे गए पत्र में कहा कि चिकनकारी कला सैसड़ों वर्ष़ों से लखनऊ की शान रही है और पारंपरिक धरोहर के रूप में विख्यात है। इस कला को भारत की अलग-अलग शासन व्यवस्था के तहत प्रोत्साहित किया गया है।
इस चिकनकारी कला के तहत निर्मित रेडीमेड वत्रों को जीएसटी से मुक्त करने का अनुरोध नरेद्र मोदी ने किया। यदि यह संभव न हो तो इन वत्रों को दोहरी कर प्रणाली से मुक्त कर 12% कर घटाकर 5% करना चाहिए जिससे इस कला से जुड़े लोगों को बेरोजगार नहीं होना पड़ेगा।
पासवान ने इस पत्र की प्रतियां वित्तमंत्री अरुण जेटली, कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को भी भेजी थी।

© 2017 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer