पहली बीएस-6 रिफाइनरी बाड़मेर में होगी स्थापित

पहली बीएस-6 रिफाइनरी बाड़मेर में होगी स्थापित
प्रधानमंत्री मोदी करेंगे 16 जनवरी को रिफाइनरी का शिलान्यास
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । देश में पहली बीएस-6 रिफाइनरी राजस्थान के बाड़मेर में स्थापित होगी।यह रिफाइनरी देश के ऊर्जा सुरक्षा के दृष्टिगत बेहद महत्वपूर्ण साबित होगी।ऐसे में लगभग 42 हजार करोड़ रुपए की लागत वाली इस रिफाइनरी का शिलान्यास प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी 16 जनवरी 2018 को करेंगे।
केद्रीय पेट्रोलियम मंत्री श्री धर्मेन्द प्रधान ने कहा कि मोदी सरकार की तरफ से राजस्थान सरकार के साथ मिलकर हर तरह की मंजूरी ले ली है और इसको लेकर ठेका भी दे दिया गया है।ऐसे में अब शिलान्यास के बाद एक बार काम शुरु होगा तो फिर इस परियोंजना के पूर्ण होने पर ही समाप्त होगा।जिसके तहत 90 लाख वार्षिक क्षमता वाली रिफाइनरी का काम 2022-23 तक पूरा किया जाएगा।उन्होंने कहार कि यह रिफाइनरी अपने आरप में बेहद आधुनिक होगा।इस रिफाइनरी में सिर्फ बीएस-6 ग्रीन फील्ड रिफाइनरी होगी।जिसकी कुल क्षमता 90 लाख टन क्रूड शोधन की होगी।जिसमें 25 लाख टन स्थानीय कूड (राजस्थान के तेल ब्लॉक से निकाले जाने वाले) का इस्तेमाल होगा जबकि शेष 65 लाख टन आयातित या देश के दूसरी हिस्सों से निकाले जाने वाले कूड का इस्तेमाल होगा।उन्होंने कहा कि केद्र व राज्य ने रिफाइनरी लगाने वाली सरकारी कम्पनी हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के साथ मिलकर राजस्थान से परियोजना को मिलने वाली वार्षिक राशि का नए सिरे से आकलन किया है।जिसके तहत पहले राजस्थान की तरफ से वायबिलिटी गैस फंडिंग के माध्यम से वार्षिक 3736 करोड़ रुपए देने की योजना था बहरहाल नए आकलन के तहत अब सिर्फ 1123 करोड़ रुपए देने पड़ेंगे।ऐसे में राजस्थान को इस तरह से 15 वर्ष़ों में 40 हजार करोड़ रुपए की बचत होगी।उन्होंने कहा कि 2030 से देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढावा देने की बातें हो रही है जिसके बावजूद देश में पेट्रोल व डीजल की मांग में कमी नहीं होगी।इस समय देश में पेट्रोलियम उत्पादों की मांग में आठ प्रतिशत और पेट्रोकेमिकल उद्योग में 15 प्रतिशत की वार्षिक वृद्वि हो रही है।वैसे इस समय देश की रिफाइनरियों की क्षमता 21.5 करोड़ टन है जबकि 2030 तक देश में 35 करोड़ टन क्षमता की आवश्यकता होगी।जिसके चलते मोदी सरकार की तरफ से देश के पश्चिमी तट पर एक बड़ी रिफाइनरी बनाने की संभावना भी तलाशी जा रही है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer