सिंगल ब्रांड रिटेल : 100% एफडीआई की अनुमति का भारी विरोध

सिंगल ब्रांड रिटेल : 100% एफडीआई की अनुमति का भारी विरोध
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । देश भर के अग्रणी व्यापारिक संगठनों की तरफ से सिंगल ब्रांड रिटे ट्रेड में ऑटोमेटिक रुट से 100 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति देने की मोदी सरकार के फैसले का भारी विरोध किया है और आशंका व्यक्त की है कि मोदी सरकार अब मल्टी ब्रांड रिटेल रिटेल में 100 प्रतिशत एफडीआई की छूट देगी।जिसको लेकर देश के अग्रणी व्यापारिक संगठनों ने इस फैसले के खिलाफ सड़कों पर उतरने की चेतावनी दी है।
इस बाबत देश के व्यापारियों की अग्रणी संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि सिंगल ब्रांड रिटेल ट्रेड में ऑटोमेटिक रुप से 100 प्रतिशत एफडीआई की छूट से मल्टी नेशनल कम्पनियां बिना केद्र सरकार अथवा आरबीआई की पूर्व अनुमति के किसी भी उत्पाद या ब्रांड के खुदरा व्यापार में निवेश कर सकेगी।इस फैसले से वैश्विक स्तर की तमाम अग्रणी रिटेल कम्पनियों को पूंजी और तकनीक के बल पर भारतीय बाजार में प्रवेzिंा करने और इसे नियंत्रित करने का एक सुनहरा अवसर प्राप्त हो जाएगा।जिससे एक तरफ देश के लाखों छोंटे व्यापारियां का स्वरोजगार छिन जाएगा।वहीं दूसरी तरफ देश के रिटेल व्यापार से जुड़े भारी तादाद में लोग बेरोजगार हो जाएंगे।उन्होंने स्पष्ट रुप से कहा कि मोदी सरकार की मंशा अब मल्टी ब्रांड रिटेल ट्रेड में भी 100 प्रतिशत एफडीआई लाने की है।ऐसे में यदि ऐसा हुआ तो यह सबसे अधिक रोजगार देने वाला भारतीय खुदरा क्षेत्र में विदेशी घुसपैठ और रोजगार छिनने का सबब बनेगा। 

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer