2020 तक $ 400 अरब के टर्नओवर का लक्ष्य निर्धारित

2020 तक $ 400 अरब के टर्नओवर का लक्ष्य निर्धारित
हमारे संवाददाता  इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग में विदेशी कम्पनियों के बढते रुझान को देखकर केद्र सरकार की तरफ से देश भर में इ इसको लेकर मैन्युफैक्चरिंग कलस्टर तैयारी करने पर विचार कर रही है।इसके अतिरिक्त केद्र सरकार की तरफ से देश में सेमीकंडक्टर वेफर फैब्रिकेशन इकाइयां स्थापित करने का भी चाहत है।जिससे देश में भारी तादाद में नए रोजगार सृजित होने के आसार हø।  दरअसल केद्र सरकार की चाहत है कि अब समय आ गया है कि देश में इलेक्ट्रानिक मैन्युफैक्चरिंग और इसके निर्यात को बढावा देने की आवश्यकता है।देश में पहली बार इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों की मैन्युफैक्चरिंग का आंकड़ा इन उत्पादों के कुल निर्यात से ऊपर गया है।जिसको लेकर घरेलू मैन्युफैक्चरिंग में देशी विदेशी कम्पनियों की बढती रुचि के चलते केद्र सरकार इस पर विशेष फोकस कर रही है।जिसको लेकर केद्र सरकार की तरफ से देश में इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग के लक्ष्यों को प्राप्त करने को लेकर नई इलेक्ट्रॉनिक्स नीति एनपीई 2.0 पर काम शुरु कर दिया गया है।जिसके तहत 2020 तक देश में इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग के टर्नओवर को 400 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया जा सकता है।चूंकि केद्र सरकार का इरादा इस क्षेत्र में 100 अरब डॉलर का निवेश आकर्षित करने का है।जिससे लगभग 3 करोड़ नौकरियां सृजित होंगी।इस क्षेत्र में केद्र सरकार की तरफ से चिप डिजाइन की बेहतर संभावनाएं दिख रही है।ऐसे में केद्र सरकार की चाहत है कि इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र के कुल टर्नओवर में 55 अरब डॉलर की हिस्सेदारी चिप डिजाइन और सॉफ्टवेयर उद्योग के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है।जिसको लेकर नई इलेक्ट्रोनिक नीति बनाने के काम में जुटे इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिक मंत्रालय की तरफ से कहा जा रहा है कि यदि इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग के लक्ष्यों को प्राप्त कर लिया जाता है तो 2020 तक इस क्षेत्र के निर्यात को 80 अरब डॉलर तक पहुंचाया जा सकता है।ऐसे में नई नीति में इलेक्ट्रॉनिक मैन्यफैक्चरिंग कलस्टर स्थापित करने पर विशेष जोर दिया जा रहा है।जिसके तहत देश में ऐसे 200 कलस्टर स्थापित करने की संभावना है।नई नीति में इलेक्ट्रॉनिक सेक्टर को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से सेमीकंडक्टर वेफर फैब्रिकेशन इकायां स्थापित करने का प्रावधान भी किया जाएगा।इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों में इस्तेमाल होने वाले इंटीग्रेटेड सर्किट को सेमीकंडक्टर वेफर कहा जाता है।इन विशाल आकार की इकाइयों में सेमीकंडक्टर वेफर का निर्माण होता ह।,देश में पहचान सेमीकंडक्टर डिजाइन के हब के तौर पर पहले ही बन चुकी है।जिसके तहत प्रत्येक वर्ष यहां लगभग 2000 चिप डिजाइन की जाती है जिसको लेकर लगभग 20 हजार इंजीनियर काम कर रहे हø।चिप डिजाइन से देश वार्षिक दो अरब डॉलर का राजस्व प्राप्त कर रहा है।सेमीकंडक्टर वेफर फैब की स्थापना के इस काम में और तेजी आएगी।   

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer