चीनी : 2.95 करोड़ टन का होगा रिकार्ड उत्पादन

चीनी : 2.95 करोड़ टन का होगा रिकार्ड उत्पादन
घरेलू बाजार में पर्याप्त उपलब्धता : कीमत रहेगी स्थिर   हमारे संवाददाता  नई दिल्ली । देश भर की चीनी मिलों की अग्रणी संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) की तरफ से चालू पेराई मौसम को लेकर दूसरे अग्रिम अनुमान प्रस्तुत किए हø।जिसके तहत देश के उत्पादक राज्य महाराष्ट्र व कर्नाटन में चीनी का उत्पादन अधिक होने का अनुमान है।जिसके चलते चालू पेराई मौसम में इस बार देश में चीनी का रिकार्ड उत्पादन 2.95 करोड़ टन जहोने का अनुमान है जो कि 45 लाख टन अधिक उत्पादन होगा।जिससे स्वभाविक है कि घरेलू बाजार में चीनी की उपलब्धता पर्याप्त बनी रहेगी और चीनी की कीमत थमी रहेगी।जिससे आम उपभोक्ताओं को मंहगाई से राहत मिलने के आसार बन सकेंगे।      दरअसल सूखे के चलते महाराष्ट्र व कर्नाट में गन्ना की खेती प्रभावित हो गई थी।जिसको देखते हुए इस्मा की तरफ से पहले चीनी का कुल उत्पादन 2.61 करोड़ टन होने का अनुमान लगाया गया था।बहरहाल बाद में गन्ने में चीनी की रिकवरी बढ जाने के चलते चीनी का उत्पादन अधिक हो गया है।ऐसे में पिछले महीने के अंत तक चीनी का उत्पादन 2.30 करोड़ टन हो गया था।इस समय देश में कुल 479 चीनी मिलों में पेराई हो रही है।बहरहाल रिकवरी दर बढने से कुल उत्पादन कमा संशोधित अनुमान 2.95 करोड़ टन हो गया है।भारत में सबसे अधिक चीनी का उत्पादन 2006-07 में हुआ था तब कुल चीनी उत्पादन 2.83 करोड़ टन हुआ था।वैसे तो भारत दुनिया में चीनी उत्पादन के मामले में दूसरे नम्बर का देश है। 
इसीबीच चालू पेराई मौसम के तहत उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 1.05 करोड़ टन चीनी का उत्पादन होगा जबकि पिछले वर्ष उत्तर प्रदेश में कुल 88 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था।महाराष्ट्र में 1.01 करोड़ टन चीनी का उत्पादन होगा जो कि पिछले वर्ष के 42 लाख टन से अधिक है।जबकि कर्नाट में 35 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था।ऐसे ताजा हालात को देखते हुए निश्चित रुप से इस देश में चीनी की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित होगी।जिससे स्वभाविक है कि खुले बाजार में चीनी की कीमत थमी रहेगी।जिससे आम उपभोक्ताओं को चीनी की सस्ती उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी और चीनी की महंगाई से काफी हद तक राहत मिल सकेगी।जिसको लेकर मोदी सरकार की भी चाहत है कि घरेलू बाजार में चीनी की कीमत थमी रहे और आम उपभोक्ताओं को सस्ती चीनी की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी।     

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer