`फार्म टू फैशन समिट'' से टेक्सटाइल्स उद्योग में चमक आयी वापस

`फार्म टू फैशन समिट'' से टेक्सटाइल्स उद्योग में चमक आयी वापस

अहमदाबाद में तीन दिन का इंडियन टेक्सटाइल्स ग्लोबल समिट रु. 1000 करोड़ के बिजनेस के साथ सम्पन्न
 
हमारे संवाददाता
अहमदाबाद। अहमदाबाद में आयोजित फार्म टू फैशन इन्डियन टेक्सटाइल्स ग्लोबल समिट 2018 को मंदी के बीच भी उत्साहजनक प्रतिभाव मिलने से 2018 के फरवरी महीने में फिर बड़े पैमाने पर समिट करने की घोषणा आयोजकों द्वारा की गई।
तीन दिन में अहमदाबाद के टेक्सटाइल्स उत्पादकों को लगभग एक हजार करोड़ का आर्डर बड़ी कंपनियों ने दिया है। उधर एक तरफ जीएसटी नोटबंदी के कारणों से सूरत का टेक्सटाइल्स उद्योग सरकार से नाराज है वही दूसरी तरफ अहमदाबाद के उत्पादकों को नई दिशा मिली है।
गुजरात चेम्बर्स आफ कामर्स और मस्कती कपड़ा महाजन द्वारा संयुक्त रूप से यह समिट आयोजित की गई। समिट में वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु, मुख्यमंत्री गुजरात, विजयभाई रुपानी, कृषि और ग्रामीण कल्याण मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, भूपेद्रसिंह चूंडासमा के अलावा रिलायन्स इशा अंबानी और परिमल भाई नथवानी की उपस्थिति सबको आकर्षित कर रही थी।
देश की 10-12 विख्यात गार्म़ेंट कंपनियों ने भी टेक्सटाइल्स उत्पादकों के साथ सीधा सौदा किया था। गुजरात चेम्बर्स के उपप्रमुख जयेद्रभाई तन्ना ने यह कहा कि अहमदाबाद में 122 टेक्सटाइल्स उत्पादको ने स्टाल लिया था। तमाम को कुल मिलाकर 1 हजार करोड़ का आर्डर गार्म़ेंट उत्पादकों की तरफ से मिला। रेमन्ड, रिलायन्स ट्रेन्डज, बिबा, जीनी जेली, टामी हाईफिगर, अरविंद मिल्स और मान्यवर ब्रान्डो ने उत्पादकों के पास से तीन महिने के आर्डर जितना माल खरीद लिए जाने से अहमदाबाद कपड़ा बाजार में तेजी का माहौल हो गया है।
समिट में 10 हजार से अधिक मुलाकाती और प्रतिनिधिमंडल आए थे। भारत के अलावा यु.के और थाइलैन्ड समिट में कन्ट्री पार्टनर थे। आईआईएम औ एनआईडी के अलावा निफर भी समिट में जुड़ी थी।
कपास की उत्पादकता बढ़ाने के लिए अमूल जैसा सहकारी मोडल विकसित करने के लिए 500 जितने किसानों को शिक्षित किया गया था। यार्न उद्योग, टेक्सटाइल्स उद्योग में पर्यावरण, भारत में एकमात्र टेक्सटाइल पार्क, जबलपुर के बारे में रोड शो, फैब्रिक प्रोसेसिंग, एपरल के लिए गुजरात और भारत की वैश्विक केद्र बनाने पर जोर दिया गया था।
यार्न उद्योग में मूल्यवर्धन के लिए समिट के दौरान चर्चा हुई थी। टेक्सटाइल्स एसोसिएशन, टेक्सप्रोसिल, एसआरटीइपीसी, सिन्टेक्स और वर्धमान जैसी कंपनियों ने नई तकनीक और आधुनिक प्रवाह और विजन 2030 को ध्यान में रखकर सुझान दिया। टेक्सटाइल्स क्षेत्र में भारत देश में रिसर्च एंड डेवलपमेंट कम होने पर चिंता व्यक्त की गई। इस संयंर्त्र में गुजरात में टेक्सटाइल्स युनिवर्सिटी स्थापना के लिए भी गुजरात सरकार प्रयत्न करे इसकी अपील की गई।
समिट के दरमियान 15 जितनी फैशन सिक्वन्स की प्रस्तृति हुई।
रिलायन्स तथा चीरीपाल जैसी कंपनियों के वत्रों का फैशन शो भी आयोजित किया गया।   

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer