अमेरिकी कंपनी वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट की 77 प्र.श. हिस्सेदारी खरीदी

अमेरिकी कंपनी वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट की 77 प्र.श. हिस्सेदारी खरीदी
सबसे बड़ा ई-कॉमर्स में अधिग्रहण, रु. एक लाख करोड़ से अधिक का सौदा
 
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । भारत के ई-कॉमर्स क्षेत्र में सबसे बड़े अधिग्रहण के माध्यम से अमेरिकी कंपनी वालमार्ट का देश में प्रवेश हो गया है।जिसके तहत वालमार्ट ने देसी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में 77 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी खरीदारी खरीदकर इसका अधिग्रहण कर लिया है।कंपनी ने 16 अरब डॉलर यानि 1.05 लाख करोड़ रुपए में फ्लिपकार्ट को खरीदने के बाद दो अरब डॉलर यानि 13400 करोड़ रुपए अतिरिक्त निवेश की भी योजना बनाई है।यह वालमार्ट का भी सबसे बड़ा अधिग्रहण है।इतना बड़ा अधिग्रहण भारत में ई-कॉमर्स के क्षेत्र में शानदार संभावनाओं को देखते हुए किया है।ऐसे में अनुमान है कि आगे देश में ई-कॉमर्स कारोबार 200 अरब डॉलर होगा।इस क्षेत्र में वालमार्ट का सीधा मुकाबला अमेरिका की ही कंपनी अमेजन से होगा।इस सौदे को लेकर अभी वालमार्ट को कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (सीसीआइ) सहित कई स्तरों पर मंजूरियां लेनी होगी।
दरअसल इस सौदे में फ्लिपकार्ट की कीमत 20.8 अरब डॉलर की आंकी गई है।इस सौदे में फ्लिपकार्ट के सह संस्थापक श्री सचिव बंसल की हिस्सेदारी भी शामिल है जो कि अब इस कंपनी का हिस्सा नहीं रहेंगे।यह सौदा इस वर्ष का विलय और अधिग्रहण का सबसे बड़ा सौदा बताया जा रहा है।यह सौदा इसलिए भी दिलचस्प है कि अभी देश में ई-कॉमर्स को लेकर कोई स्पष्ट नीति नहीं है।इसलिए यह देखना होगा कि केद्र सरकार की तरफ से कंपनी को किस तरह की कानूनी मंजूरियों की आवश्यकता होगी।पिछले छह माह से चल रही वार्ता का पटाक्षेप करते हुए वालमार्ट ने 9 मई 2018 को इस सौदे का ऐलान किया।जिसमें बताया गया कि फ्लिपकार्ट में बाकी हिस्सेदारी उसके कुछ मौजूदा शेयरधारकों के पास ही रहेगी जिनमें कंपनी के दूसरे सह संस्थापक बिन्नी बंसल,टेनसेंट होल्डिंग,टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट और माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन शामिल है।टेनसेंट और टाइगर ग्लोबल फ्लिपकार्ट के बोर्ड में बने रहेंगे जबकि वालमार्ट का एक सदस्य होगा।जापानी कंपनी सॉफ्टबैंक फ्लिपकार्ट में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचकर बाहर ह गई है। सॉफ्टबैंक इस कंपनी में सबसे बड़ा निवेशक थी।जिसको लेकर कंपनी ने कहा है कि वह फ्लिपकार्ट को भविष्य में शेयर बाजार में सूचीबद्व कराने में मदद करेगी।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer