विश्व की सबसे तेज सुपरसोनिक कूज मिसाइल ब्रह्मोस छ माह में 75% होगा स्वदेशी

विश्व की सबसे तेज सुपरसोनिक कूज मिसाइल ब्रह्मोस छ माह में 75% होगा स्वदेशी

हमारे संवाददाता
पुणे । विश्व की सबसे तेज सुपरसोनिक कूज मिसाइल ब्रहोस अगले छह महीने में 75 प्रतिशत स्वदेशी हो जाएगा।हालांकि अभी तक 65 प्रतिशत स्थानीय कल पूर्ज़ों का इस्तेमाल किया जाता है।
इस बाबत ब्रहोस एयरोस्पेस के प्रबंधक निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सुधीर मिश्रा ने एल एण्ड टी डिफेंस द्वारा निर्मित क्वैड लांचर को समर्पित करने के समारोह में कहा कि अभी ब्रहोस में 65 प्रतिशत कल पूर्जे भारतीय है।हमने महज 10 से लेकर 12 प्रतिशत स्वदेशी उपकरणों से शुरुआत की थी और आज 65 प्रतिशत पर पहुंच गया है।अगले दह महीने में हम 75 प्रतिशत के लगभग रहेंगे।
श्री मिश्रा ने कहा कि पिछले मार्च में हमने स्वदेशी सीकर का उड़ान परीक्षण किया और दो महीने में स्वदेशी बूस्टर का परीक्षण किया जाएगा।इससे ब्रहोस 85 प्रतिशत स्वदेशी हो जाएगा। उन्होंने क्वैड लांचर के बारे में कहा कि इस स्मार्ट लांचर से एक साथ में आठ मिसाइल लांच करना संभव हो जाएगा।हमें नौसेना से अभी ठेका नहीं मिला है लेकिन हमने काम शुरु कर दिया है।हमने प्रौद्योगिकी,ज्ञान और भविष्य के कारोबार में निवेश किया है।हम बस ठेके का इंतजार कर रहें है।उन्होंने कहा कि इस लांचर को सिर्फ आईएनएस दिल्ली श्रेणी के जहाहों में ही नहीं बल्कि प्रणाली में मालूली बदलाव कर दुनिया के किसी भी जहाज में लगाया जा सकता है।उन्होंने कहा कि यहां और वहां कुछ मामूली बदलाव के बाद जब हम ब्रहोस का निर्यात करेंगे जो कि हम जल्दी ही करना चाहते है।हम इसे विदेशी जहाजों में भी लगा रहे है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer