उधार मांगने वालों से जीएसटी नंबर मांगा जायेगा, इसी आधार पर मिलेगी क्रेडिट


कपड़ा उधार लेने वालों के लिए मस्कती महाजन मार्केट की अनोखी व्यवस्था
 
हमारा प्रतिनिधि
अहमदाबाद। उधारी का धंधा ज्यादा दिन टीक नहीं सकता। उधारी में सामने वाली पार्टी के उठने को जोखिम। यानि की हमेशा चिंता भरा धंधा। चिंता मुक्त धंधे के लिए अहमदाबाद की और देश की सबसे पुराने कपड़ा बाजार `मस्कती महाजन' द्वारा अनोखा कदम उठाया गया है। `मस्कती महाजन' से कोई उधार माल लेकर जाएं तो जीएसटी नंबर संस्था को देना होगा। इसके आधार पर उसे कितनी क्रेडिट देनी है यह भी निश्चित की जायेगी।
मस्कती महाजन के प्रमुख गोरांग भगत ने बताया कि अब तक बारह सौ करोड़ के आसपास रकम उधार में फंसी हुई है। इसको निकालने में नाको दम आ जाता है। व्यापारियों को कई बार दुकान भी बंदकर देनी पड़ती है। ऐसी परिस्थिति में हमने निर्णय किया है कि लोग कपड़ा खरीदने के लिए तैयार हो उसको जीएसटी नंबर देने और कितना माल दिया इसकी जानकारी देनी होगी। इसमें उसकी क्रेडिट कितनी हो गई है, यह निश्चित होगा। इसके साथ-साथ उसे कितना माल उधारी में देना है यह भी निश्चित होगा।
मस्कती महाजन एसएमएस द्वारा संदेश व्यवसाय करते हुए व्यापारियों को भी भेजा जायेगा। इस नियम से व्यापारियों में खुशी है और सभी जुड़ रहे है। व्यापारी नरेश शर्मा ने बताया कि मुझे पुरानी उधारी लेने में बहुत नुकसान हुआ है। अभी भी काफी रुपया फंसा हुआ है। लेकिन इस कदम से व्यापारियों में सरलता रहेगी।
मस्कती महाजन में 1800 से अधिक व्यापारी सदस्य है और पूरे देश में से कपड़े की खरीदी इस मार्केट से होती है। इतनी ही नहीं श्रीलंका, भुटान, बांग्लादेश आसपास के पड़ोसी देश भी खरीदी करते है। वार्षिक 36 हजार करोड़ की कीमत का कपड़ा की ले-बेच इस मार्केट द्वारा होती है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer