लग्जरी आइटम्स पर 2-5% किसान सेस लगने का प्रस्ताव जीएसटी काउंसिल की बैठक में होगा फैसला

लग्जरी आइटम्स पर 2-5%  किसान सेस लगने का प्रस्ताव जीएसटी काउंसिल की बैठक में होगा फैसला
 
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । किसानों की आमदनी बढाने और गन्ना किसानों का बकाया चुकाने को लेकर केद्र सरकार की तरफ से अब किसान सेस लगाने की तैयारी में है।जिसको लेकर गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स (जीएसटी) काउंसिल की अगली बैठक में इस फसले पर मुहर लगने की संभावना है।जिसको लेकर केद्रीय वित्त मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि इस संबंध में प्रस्ताव जो तैयार किया गया है जिसमें कहा गया है कि जीएसटी के तहत लग्जरी आइटम्स पर 28 प्रतिशत का टैक्स लगता है और अब इन आइटम्स पर सेस लगाया जाए।इसका मतलब यह है कि जिन आइटम्स पर 28 प्रतिशत जीएसटी लगता है उन पर किसान सेस लग सकता है।यह लक्जरी आइटम्स पर किसान सेस 2/5 प्रतिशत तक लगाने की तैयारी हो रही है।
दरअसल केद्र सरकार पर अब दबाव यह है कि कृषि लागत कम करें और गन्ना किसानों का भुगतान जल्द कराया जाए।इससे संबंधित फंड जुटाने को लेकर अब किसान सेस लगाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।यद्यपि इसको लेकर राज्यों की सहमति भी आवश्यक है।चूंकि पहले चीनी पर सेस लगाने की बातचीत चल रही थी बहरहाल इसको लेकर केद्र सरकार के भीतर गहरा मतभेद है।ऐसे में कई केद्रीय मंत्रालयों की तरफ से कहा गया है कि सेस लगाना जीएसटी की मूल भावना के खिलाफ होगा।ऐसे में यदि चीनी पर सेस लगाया जाता है तो दूसरे राज्य भी अन्य उत्पादों पर सेस की मांग कर सकते है। वैसे तो हाल ही में पश्चिम बंगाल ने जूट पर सेस लगाने की मांग उठाई थी।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer