चीन का घरेलू आयर्न ओर उत्पादन घटकर 2400 लाख टन

चीन का घरेलू आयर्न ओर उत्पादन घटकर 2400 लाख टन
हमारे संवाददाता
मुंबई। चीन में जुलाई आयर्न ओर आयात में उछाल और पर्यावरण शुद्धिकरण के साथ स्टील उत्पादन क्षमता पर अंकुश लागू होने से बेंचमार्क 62 प्रतिशत आयर्न ओर के भाव, पिछले छह महीने में पहली बार प्रति टन 70 डॉलर के जादुई आँकड़ा नजदीक सरक गए है। मौसम शुद्ध रखने के हेतु से छोटी स्टील मिलों द्वारा सस्ते स्टील उत्पादनों पर अंकुश जैसे आधिकारीक कायदा की वजह से बड़ी स्टील मिलों के मुनाफे में उछाल और रिकार्ड उत्पादनों से प्रोत्साहित स्टील के कच्चे माल आयर्न ओर के भाव, बुधवार को 69.78 डॉलर बोला गया था। 
इसमें कोई शंका नहीं है कि चीन की स्टील मिलों के पुर्ननिर्माण का काम यहा आकर रुक जाएगा और उसका मतलब यह भी नहीं कि उत्पादन में कमी आएगी, चीन के प्रयासो उच्च गुणवत्ता के उत्पादनों बाजार में रखना होगा, ऐसा ऑस्ट्रेलियन खदान कंपनी रियो टिंटों का कहना है। हाई ग्रेड 65 प्रतिशत आयरन ओर के प्रीमियम काबू के बाहर चले जाने से मीडियम ग्रेड 62 प्रतिशत ओर की मांग में बड़ी वृद्धि की संभावना को देखते हुए, कोमनवैल्थ बøक ऑफ ऑस्ट्रेलिया ने 2018-19 का 62 प्रतिशत आयर्न ओर के औसत भाव के पूर्वानुमान में वृद्धि की है। 30 जून, 2019 को खत्म होने वाले 12 महीनों के लिए कास्ट एंड फ्रेट चाइना भाव के पहले के पूर्वानुमान 56 डॉलर से अब 9 प्रतिशत बढ़ाकर 61 डॉलर किए है। 
दुनिया की 66 प्रतिशत सी-बोर्न आयर्न ओर उपयोग और आयात चीन करता है। चीन ने जुलाई में आयर्न ओर की आयात, जून की 832.4 लाख टन के सामने 899.6 लाख टन की थी, जो पिछले साल के जुलाई में 886.6 लाख टन थी, ऐसा चीन की जनरल एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ कस्टम्स की वेबसाईट में दर्शाया गया है। चीन में पर्यावरण अंकुशों और मौजूदा उत्पादन कटौती के चरण की वजह से चीन की स्टील मिलों का मुनाफा प्रति टन 1100 युआन (161.24 डॉलर) की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है। 
बीजिंग द्वारा सर्दियों से पहले मौसम प्रदूषण पर अंकुश प्राप्त करने के लिए सख्त कायदे एवं आपूर्ति कटौती लागू करने से पहले चीन की स्टील मिलों संभवत: बड़ा मुनाफा प्राप्त करने की दौड़ में लगे है। चीन के मुख्य स्टील उत्पादक विस्तार हूबई में बिजली कटौती की वजह से गृह निर्माण उद्योग में उपयोग में लिए जाते रिबार स्टील शांघाई फ्यूचर्स एक्सचेंज अक्टूबर अनुबंध (वायदा) छह साल की नई उंचाई 4266 युआन और रिबार हाजिर भाव 4451.33 युआन बोला गया था। 
रेटिंग एजेंसी फिच ने मार्च 2016 से चीन की स्टील उत्पादन क्षमता का पूर्वानुमान 2600 लाख टन यथावत रखा है, इसलिए एक ओर बाजार भाव नीचे से वापिस फिरे थे और दूसरी ओर बाजार में आपूर्ति अंकुश भी आ गया है। फिच का मानना है कि उत्पादन क्षमता का उपयोग 70 से 75 प्रतिशत था, वह अब बढ़कर 85 प्रतिशत हुआ है। विश्लेषकों का कहना है कि आयर्न ओर के भाव को अन्य फंडामेंटल्स ने भी मदद की है। एक ओर आपूर्ति साइड के सुधार लागु हुए, तब दूसरी ओर खदान सुरक्षा के व्यापक नियम कानून लाए गए उसकी वजह से चीन का घरेलू आयर्न ओर उत्पादन कुछ सालों पहले 4000 लाख टन था वह अब घटकर केवल 2400 लाख टन रह गया है। 
अमेरिका के साथ ट्रेड वॉर अधिक तीव्र बनने से पहले चीन की नेतागीरी ने अल्पावधि के आर्थिक सुधार निति का अमल करना शुरू कर दिया है। चीन अब सरकारी स्पोंसर्ड फिक्स्ड एसेट्स इंवेस्टमेंट विकास की बजाय कुदरती संशाधनों को महत्व देकर उनकी पुरानी पद्धति की इकोनोमी संतुलीत  इंवेस्टमेंट आधार वाली परियोजनाओं को अमली जामा पहनाना चाहते है। मंगलवार को वॉशिंग्टन ने कहा था कि 23 अगस्त से हम चाइना से आयात होते 16 अरब डॉलर के सामान पर 25 प्रतिशत कर आकारणी और वसूली शुरू करेंगे, इसका मतलब यह होता है कि दुनिया के यह दो हाथियो की व्यापार लड़ाई अधिक तीव्र बननेवाली है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer