सेबी को फोन टैपिंग के अधिकार मिलने को लेकर सिफारिश

सेबी को फोन टैपिंग के अधिकार मिलने को लेकर सिफारिश
इस मसले पर 24 अगस्त तक हितधारकों से मांगी गई टिप्पणी 
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । भारतीय पूंजी बाजार नियामक संस्था भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) को फोन कॉल टैप करने का अधिकार मिल सकता है।जिसको लेकर एक उच्च स्तरीय समिति ने इस संबंध में सिफारिश की है।ऐसे में पूंजी बाजार में बढ रही धोखाधड़ी की घटनाओं,इनसाइडर ट्रेडिंग और अन्य मामलों पर लगाम लगाने की दिशा में यह बड़ा सुधार हो सकता है।जिसको लेकर इस रिपोर्ट पर 24 अगस्त 2018 तक लोगों से टिपण्णी मांगी गई है। 
दरअसल सिक्योरिटीज मार्केट को लेकर मजबूत कानूनी फ्रेमवर्क तैयार करने और कारोबारी सुचिता सुनिश्चित करने की जरुरत को देखते हुए पिछले वर्ष अगस्त में एक समिति का गठन किया गया था।जिसके तहत पूर्व विधि सचिव और लोकसभा के पूर्व महासचिव टी.के. विश्वनाथन की अध्यक्षता में गठित समिति की 116 पन्नों की रिपोर्ट सार्वजनिक करते हुए सेबी की तरफ से कहा गया है कि इसमें सभी सूचीबद्व कंपनियें, उनके कर्मचारियों और एजेंटों को धोखाधड़ी के नियमों के अधीन लाने की सिफारिश की गई है।कई बार स्पष्ट प्रावधानों की कमी के चलते धोखाधड़ी के मामले में मार्केट इंटरमिडियरीज (पूंजी बाजार को लेकर विभिन्न सेवा मुहैया कराने वाली कंपनियां) को ही जिम्मेदार ठहकाया जाता है।ऐसे में कंपनियों के कर्मचारियों व एजेंटों को धोखाधड़ी कर बच निकलने का मौका मिल जाता है।जिसको लेकर समिति की तरफ से कहा गया है कि जांच के तहत जरुरत पड़ने पर सेबी के पास भी केद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड )सीबीडीटी) की तरह ही कॉल टैप करने का अधिकार होना चाहिए। अभी सेबी को कॉल डाटा रिकॉर्ड हासिल करने का ही अधिकार है।विदेश में कुछ नियामकों के पास फोन टैप करने का अधिकार है।जिसके तहत रजत गुप्ता और राज राजारत्नम जैसे कुछ बड़े वैश्विक धोखाधड़ी के मामले फोन टैप से ही सामने आए थे।ऐसे में यह समिति ने सूचिबद्व कंपनियों में शिकायतकर्ताओं (हासल ब्लोअर) को लेकर अनिवार्य रुप से नीति बनाने की सिफारिश की है।जिसके तहत कंपनियों व इंटरमिडियरीज को लेकर संवेदनशील जानकारी रखने वाले अफसरों के पते पर रहने वाले सभी निकट संबंधियों व अन्य व्यक्तियों की तैयार सूची रखने का निर्देश भी है।जिसको लेकर सेबी के मांगने पर तुरन्त यह सूची सौंपी जानी चाहिए।हाल ही में एचडीएफसी बैंक,एक्सिस बैंक और टाटा मोटर्स जैसी कंपनियों के संवदेनशील वित्तीय नतीजे वाट्सएप पर लीक होने जैसे मामालें को देखते हुए यह सिफारिशें बेहद अहम मानी जा रही है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer