पहली बार तेल व गैस खोज के ब्लॉक की खुली नीलामी

पहली बार तेल व गैस खोज के ब्लॉक की खुली नीलामी
वेदांता को 40, ओएनजीसी को दो एवं एचओईसी को एक मिलेंगे तेल व गैस खोज ब्लॉक 
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । वेदांता लिमिटेड को खुली ब्लॉक नीलामी के तहत तेल एवं गैस खोज के 40 ब्लॉक मिल सकते है।जबकि ओएनजीसी को दो और एचओईसी को एक तेल व गैस खोज ब्लॉक मिलेंगे।हालांकि देश में पहली बार तेल व गैस खोज के ब्लॉक की खुली नीलामी की गई।
चूंकि केद्रीय सचिवों की प्राधिकृत समिति ने खुला क्षेत्र लाइसेंस नीति एक के तहत तेल व गैस ब्लॉक आवंटन को मंजूरी दी है।जिसको लेकर बोलियां प्राप्त करने का काम दो मई को समाप्त हो गया था।जिसके तहत सचिवों की समिति की सिफारिशों को अब केद्रीय वित्त व पेट्रोलियम मंत्रियों के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।दरअसल केद्रीय मंत्रिमंडल ने अप्रैल में खुला क्षेत्र लाइसेंस नीति के तहत तेल व गैस ब्लॉक की नीलामी में बोली लगाने वाले विजेताओं को संबंधित ब्लॉक सौपने का अधिकार केद्रीय वित्त व पेट्रोलियम मंत्रालय को दे दिए गए थे।इस नीति के तहत पहली नीलामी में वेदांता की तेल व गैस कंपनी केयर्न इंडिया ने सभी 55 ब्लॉक को लेकर बोली लगाई।जबकि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने  अपने बलबूते पर अथवा संयुक्त रुप से 37 ब्लॉक को लेकर बोलियां सौंपी।इसी प्रकार सार्वजनिक क्षेत्र की ही हिन्दुस्तान ऑयल एक्सप्लोरेंशन कंपनी (एचओईसी) को एक ब्लॉक मिल सकता है।ऑयल इंडिया को इस बोली में आधा दर्जन के लगभग ब्लॉक प्राप्त हो सकते है।ऐसे में अब ब्लॉक आवंटन को लेकर केन्दीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी की प्रतीक्षा की जा रही है।चूंकि केद्रीय वित्त मंत्रालय का प्रभार फिलहाल पीयूष गोयल देख रहे है।जबकि केद्रीय मंत्री श्री अरुण जेटली गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद अब ऐसा कहा जा रहा है कि अगले सप्ताह वित्त मंत्रालय पहुंच सकते है।जिसके बाद ही वह खुला क्षेत्र खोज लाइसेंस आवंटन को मंजूरी देंगे।उल्लेखीय है कि केद्रीय सरकार ने पिछले वर्ष जुलाई में कंपनियों को तेल एवं गैस खोज को लेकर अपनी पसंद का क्षेत्र चुनने की अनुमति दी थी।जिसका मकसद 28 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को तेल व गैस खोज कार्य के तहत लाना था।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer