तिलहन व गन्ने की बोआई बढ़ी : धान, दलहन, मोटे अनाज की धीमी

तिलहन व गन्ने की बोआई बढ़ी : धान, दलहन, मोटे अनाज की धीमी
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । चालू मानसून मौसम के तहत देश के पूर्वी व पूर्वोत्तर भू भाग में वर्षा की अपेक्षाकृत कमी बनी हुई है।बहरहाल इन क्षेत्रों में आगे वर्षा की स्थिति सुधरने की उम्मीद है।ऐसे में देश के अन्य अधिकांश भू भाग में बरसात अच्छी हो रही है और खरीफ फसलों की बोआई धीरे धीरे सुधर रही है।ऐसे में चालू खरीफ फसल मौसम के तहत देश के विभिन्न उत्पादक राज्यों में अब तक खरीफ फसलों की कुल औसत बोआई 854.56 लाख हैक्टेयर क्षेत्रों में हो गई है।बहरहाल पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में खरीफ फसलों की कुल बोआई 870.47 लाख हैक्टेयर में हो गई थी।जिससे पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक खरीफ फसलों की बोआई 15.91 लाख हैक्टेयर में कम ही हो पाई है।जिसके तहत अब तक तिलहन व गन्ने की बोआई में अब वृद्वि हो गई है और आगे बोआई रफ्तार कायम रहेगी।वहीं धान,दलहन,मोटे अनाज की बोआई रफ्तार धीमी है।जबकि कपास सहित जूट व पटसन की बोआई कमजोर है।इसी बीच भारतीय मौसम विभाग की तरफ से भविष्यवाणी की गई है देश के पूर्वी व पुर्वोत्तर भारत में आगे अच्छी वर्षा होने की उम्मीद बनी हुई है।जिससे स्वभाविक है कि खरीफ फसलों की बोआई की आगे सुधार की ओर अग्रसर रहेगी।
दरअसल भारतीय मौसम विभाग की तरफ से कहा गया है कि 8 अगस्त 2018 तक देश के 681 जिलों में 39 प्रतिशत वर्षा की कमी रही है।जिसके तहत उत्तर व पश्चिम भारत में 4 प्रतिशत,मध्य भारत में 5 प्रतिशत,दक्षिण भारत में 4 प्रतिशत,पूर्वी व पूर्वोत्तर भारत में बतौर 25 प्रतिशत की कमी रही है।बहरहाल पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में जो वर्षा की भारी कमी बनी हुई है।,जिसकी स्थिति में आगे सुधार होने की काफी गुंजाईश है।वैसे भी देश के अधिकांशत: भू भाग में सावन व भादव महीने में अपेक्षाकृत बरसात होती है।जिसको लेकर किसानों को विशेष चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।इसीबीच केद्रीय कृषि मंत्रालय की तरफ से चालू खरीफ फसल मौसम को लेकर जो ताजा  आंकड़े प्रस्तुत किए गए है।जिसके तहत चालू खरीफ फसल मौसम के तहत अब तक तिलहनों की बोआई 157.54 लाख हैक्टेयर में हो गई है।बहरहाल  पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में तिलहनों की बोआई 148.93 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई थी।जिससे पिछले खरीफ फसम मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक तिलहनों की बोआई 8.61 लाख हैक्टेयर अधिक क्षेत्रों में हो गई है।ऐसे में तिलहनों की बोआई रफ्तार में आगे बढोतरी कायम रहने की उम्मीद है।इसके साथ ही चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक गन्ने की बोआई 50.59 लाख हैक्टेयर में हो गई है।बहरहाल पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में गन्ने की बोआई 49.86 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई थी।हालांकि पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक गन्ने की बोआई 73 हजार हैक्टेयर अधिक क्षेत्रों में हो गई है।ऐसे में गन्ने की बोआई रफ्तार आगे कायम रहने की उम्मीद बनी हुई है।बहरहाल चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक धान की कुल बोआई 262.73 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है।जबकि पिछले खरीफ फसल मौसम के तहत इसी अवधि में धान की बोआई 274.16 लाख हैक्टेयर में हो गई थी।जिससे पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसम मौसम में अब तक धान की बोआई 11.43 लाख हैक्टेयर कम क्षेत्रों में हो पाई है।हालांकि पूर्व की तुलना में अब धान की बोआई अपेक्षाकृत काफी हद तक सुधरी है और आगे बोआई सुधरने की उम्मीद बनी हुई है।वहीं चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक दलहनों की कुल बोआई 115.57 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है।बहरहाल पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में दलहनों की बोआई 120.27 लाख हैक्टैयर में हो गई थी।जिससे पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक दलहनों की बोआई 4.70 लाख हैक्टेयर कम क्षेत्रों में ही हो पाई है।यद्यपि पूर्व की तुलना में अब दलहनों की बोआई अपेक्षाकृत सुधरी है और आगे सुधार की ओर अग्रसर रहेगी।चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक मोटे अनाज की बोआई 151.35 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है।बहरहाल पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में मोटे अनाज की बोआई 155.87 लाख हैक्टेयर में हो गई थी।जिससे पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक मोटे अनाज की बोआई 4.52लाख हैक्टेयर कम कम क्षेत्रों में ही पाई है।ऐसे में पूर्व की अपेक्षा अब मूटे  अनाज की बोआई सुधरी है और आगे सुधार की रफ्तार बढने की उम्मीद बनी हुई है।चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक जूट व पटसन की बोआई 6.99 लाख हैक्टेयर में हो पाई है।बहरहाल पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में  जूट व पटसन की बोआई 7.05 लाख हैक्टेयर में हो गई थी।जिससे पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक जूट व पटसन की बोआई सिर्फ छह हजार हैक्टर कम क्षेत्रों में बनी हुई है।चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक कपास की बोआई 109.79 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है।बहरहाल पिछले खरीफ फसल मौसम की इसी अवधि में कपास की बोआई 114.34 लाख हैक्टेयर में हो गई थी। जिससे पिछले खरीफ फसल मौसम की तुलना में चालू खरीफ फसल मौसम में अब तक कपास की 4.55 लाख हैक्टेयर कम क्षेत्रों में हो पाई है।हालांकि पूर्व की तुलना में अब कपास की बोआई सुधरी है और आगे बोआई रफ्तार में बढोतरी होने की उम्मीद है।  

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer