डेयरी क्षेत्र में विकास की अपार संभावनाएं

हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । घरेलू डेयरी उद्योग को लेकर वैश्विक स्तर पर अपार संभावनाएं है जिसके दोहन को लेकर ही डेयरी आधारभूत संरचना विकास निधि का गठन किया गया है।इससे डेयरी क्षेत्र के विकास को रफ्तार मिलेगी।
इस निधि की पहली किश्त नेशनल डेयरी डवलपमेंट बोर्ड (एनडीडीबी) को जारी करते हुए केद्रीय कृषि मंत्री श्री राधामोहन सिंह ने कहा कि इससे देश के लगभग एक करोड़ दुग्ध उत्पादकों को लाभ मिलेगा।सहकारी दुग्ध संगठनों के माध्यम से संगठित क्षेत्रों में दूध का उत्पादन करने को लेकर नाबार्ड ने 8004 करोड़ रुपए का कोष गठित किया है।इस धनराशि का उपयोग राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के माध्यम से किया जाएगा।जिसको लेकर बोर्ड को 440 करोड़ रुपए की पहली किश्त जारी की गई है।सहकारी डेयरी संगठनों को 6.5 प्रतिशत के रियायती दर पर कर्ज मुहैया कराया जाएगा जिसे अगले 10 वर्ष़ों में लौटाने की छूट होगी।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer