आईसीईएक्स में एनएमसीई का विलय 7 सितंबर से प्रभावी

विश्व के एकमात्र हीरा वायदा एक्सचेंज और देश के अग्रणी कमोडिटी वायदा एक्सचेंज आईसीईएक्स में अहमदाबाद स्थित नैशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एनएमसीई) का विलय नैशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल की मंजूरी के बाद 7 सितंबर, 2018 से प्रभावी हो गया है। विलय के बाद न्यू बोर्ड गठित किया जाएगा और आगे के सारे कारोबार आईसीईएक्स से संचालित होगा। कमोडिटी एक्सचेंजों की नियामक सेबी ने एनएमसीई के सारे कमोडिटी वायदा अनुबंधों को आईसीईएक्स के मंच पर लांच करने की अनुमति प्रदान कर दी है। आईसीईएक्स इन कारोबारों के सुव्यवस्थित संचालन के लिए अनेक प्रायोगिक (मॉक) कारोबार करेगा।
आईसीईएक्स के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ संजीत प्रसाद ने कहा कि इस विलय से उत्पादों की पेशकश, सदस्यों और ग्राहकों और विविधीकृत अनुभवी मैनपावर से कारोबार में और गहनता आएगी। उन्होंने कहा कि इस विलय से आईसीईएक्स देश का तीसरा सबसे बड़ा कमोडिटी वायदा एक्सचेंज बन गया है जिसके मंच पर अब हीरे और स्टील के अलावा रबर, केस्टरसीड, मस्टर्डसीड और जूट में भी कारोबार किये जा सकेंगे। इसतरह आईसीईएक्स के अब प्रमुख शेयरधारक एमएमटीसी, इंडियन पोटाश, कृषक भारती कार्पोरेशन (कभको), आईडीएफसी बैंक, इंडिया बुल्स हाउसिंग फाइनेंस, रिलायंस एक्सचेंजनेक्स्ट, बजाज होल्डिंग्स, सेंट्रल वायरहाउसिंग कार्पोरेशन, पंजाब नेशनल बैंक और गुजरात एग्रो इंडस्ट्रीज होंगे।
इस बीच, एक्सचेंज पर गत हफ्ते हीरे और स्टील के वायदों को मिलाकर कुल 213.80 करोड़ रुपए के सौदे हुए। इसमें हीरे के सौदे 77.34 करोड़ रुपए और स्टील के सौदे 136.46 करोड़ रुपए के थे। हीरे के वायदों में 7 सितंबर को 19.52 करोड़ रुपए के 705.27 कैरेट हीरे के सौदे हुए जबकि ओपन इंटरेस्ट 788.46 कैरेट का रहा। अगले दिन इसमें 13.54 करोड़ रुपए मूल्य के 426.62 कैरेट, 11 सितंबर को 10.84 करोड़ रुपए मूल्य के 357 कैरेट, 12 सितंबर को 28.11 करोड़ रुपए के 871 कैरेट और 13 सितंबर को 5.32 करोड़ रुपए मूल्य के 191.98 कैरेट हीरों की खरीद बेच हुई। इन वायदों के ओपन इंटरेस्ट क्रमश: 788 कैरेट, 794 कैरेट, 838 कैरेट, 769 कैरेट और 762 कैरेट जितने रहे।
स्टील लांग के वायदों में कुल 136.46 करोड़ रुपए मूल्य के 35220 मेट्रिक टन वायदा सौदे हुए जबकि ओपन इंटरेस्ट 8910 मेट्रिक टन रहा। स्टील लांग का नवंबर वायदा 39110 रुपए से शुरु होकर 39140 रुपए की ऊंचाई को छूते हुए अंत में 38660 रुपए प्रति टन पर बंद हुआ। इसका दिसंबर वायदा भी 39280 रुपए प्रति मेट्रिक टन पर बंद हुआ जबकि यह खुला 39400 रुपए प्रति मेट्रिक टन पर खुला था। हीरे के वायदों में अक्तूबर वायदा 3583 रुपए प्रति सेंट से शुरु होकर 3634 रुपए तक जाने के बाद अंत में 3580 रुपए पर बंद हुआ। नवंबर वायदा 3608.5 रुपए औघ दिसंबर वायदा 3626 रुपए प्रति सेंट पर बंद रहे। पाइंट फाइव सेंट के हीरे के वायदों में अक्तूबर वायदा 1651 रुपए, नवंबर वायदा 1664.5 रुपए और जनवरी वायदा 1666 रुपए प्रति सेंट रहे।
हीरे के हाजिर बाजार में भी सतत वृद्धि जारी रही। पहले दिन यानी 7 सितंबर को हीरे का हाजिर भाव 3727 रुपए प्रति सेंट था जो 10 सितंबर को 3756 रुपए, 11 सितंबर को 3754 रुपए, 12 सितंबर को 3760 रुपए और 13 सितंबर को 3760 रुपए पर बंद रहे।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer