अमेरिकी वायदा कमीशन ने एक्सचेंज ट्रेडेड नोट की ट्रेडिंग किया सस्पेंड

हमारे संवाददाता
क्रिप्टो करेंसी ट्रेडरों के लिए रविवार की सुबह भयानक दिवास्वप्न समान साबित हुई थी। शनिवार को साइड वे चलती बाजार में रविवार को ट्रेडरों बिस्तर में से उठकर देखते हैं कि क्रिप्टो बाजार में ऑल राउन्ड बिकवाली के चलते भाव उल्टे कांध गिरे थे। 24 घंटे में बाजार की हालत रोलर कोस्टलर जैसी हो गई थी। पिछली रात को अमेरिकी सिक्योरिटी एक्सचेंज कमिशन (एसईसीओ) एक्सचेंज ट्रेडिंग नोट सिक्योरिटी (ईटीएन) के सौदे जिसको बिटकॉईन ट्रेकर वन और इथर ट्रेकर वन के रूप में माना जाता है, उनके सौदे 21 सितंबर तक अल्पावधि के लिए सस्पेंड कर ड़ाले थे। एसईसी ने ऐसा कारण बताया था कि यह दोनों इंस्ट्रुमैंट के बारे में बाजार में भारी असमंजसता उत्पन्न हुई है।
एक चरण पर बिटकॉईन का भाव रविवार को 6070 डॉलर के तल पर बैठ गए थे, वह एक घंटे से भी कम समय में पांच प्रतिशत ऊछलकर 6326.68 डॉलर की ऊंचाई पर पहुंचे थे। भाव छोटी घटबढ़ पर टकराने के बाद कुछ ही सेकेंड में 300 डॉलर से अधिक ऊछले थे। प्रथम श्रेणी की यह डिजिटल करेंसी बिटकॉईन सप्ताह के लगातार चार ही ट्रेडिंग दिनों में बढ़े भाव से 15 प्रतिशत की गिरावट दिखलाते थे। शनिवार के बिटकॉईन डेईली चार्ट को देखेंगे तो वह ऐसा संकेत देता है कि लंबी अवधि की बैर (मंदी) मार्केट पुन: स्थापित हो गई है। इसलिए कह सकते हैं कि अगले थोड़े दिनों में जून बॉटम 5800 डॉलर को पुन: टच करने का प्रयास करेगा।
गुरुवार को बाजार में मीडिया द्वारा ऐसी खबर जारी कि गई थी कि गोल्डमैन साश ने क्रिप्टो करेंसी ट्रेडिंग डेस्क शुरू करने का इरादा रोक दिया है, इसके चलते ऑल राउन्ड बिकवाली में भाव लुढ़क गए थे। रसप्रद बाद तो यह है कि गोल्डमैन साश के सीएफओ ने इसे फैक न्यूज कहकर पूरी बात का छेद ऊड़ा दिया था। इसी समय उन्होंने कहा था कि हम अभी बिटकॉईन नोन डिलिवरेबल फोरवर्डस (बिना डिलिवरी का कबाला) जैसे डेरिवेटिव्स सौदे की संभावनाएं जांच रहे हैं। कोईन मार्केट कैप के अनुसार यह सभी ऊठापटक के बीच दूसरे नंबर की सबसे बड़ी डिजिटल करेंसी इथेरियम में गुरूवार को केवल 24 घंटे में ही 21.6 प्रतिशत की भारी गिरावट आई थी।
शुक्रवार को बिटकॉईन के सबसे बड़े प्रतिस्पर्धी इथेरियम में फिरसे 8.1 प्रतिशत और बिटकॉईन में दो प्रतिशत की गिरावट आने से क्रिप्टो करेंसी बैर मार्केट में दाखिल होकर 10 महीने के तल पर बैठ गई थी। डिजीटल एसेट्स का ट्रैक रेकॉर्ड रखने वाली संस्था कोईनमार्केटकैप.कोम का कहना है कि बाजार का कैपिटलाइजेशन जनवरी में 640 अरब डॉलर का था, वह अब शिकूडकर केवल 196 अरब डॉलर का रह गया है। हालही के महीनों में बिटकॉईन की तुलना में इथेरियम जो दुसरे नंबर की सबसे बड़ी डिजिटल करेंसी है, ट्रेडरों और कंपनीओं में ब्लोकचीन टेक्नोलाजी के बारे में चिंताएं बढ़ जाने से करेंसी धारकों मुनाफा वसूली के लिए ऊतावले होने से इथर के भाव में बड़ी गिरावट का आरंभ हुआ था। इथर के जरिये स्टार्टअप बिज़नेस शुरू करने वालो को अपने कर्मचारियों को पगार और अन्य विकास खर्च निकालना मुश्किल हो जाने से, अपने प्रारंभिक निवेशकों के पास के कोईन वापिस खरीद लिए थे।
अमेरिका में किए गए एक सर्वे में मालूम हुआ था कि 71 प्रतिशत लोग बिटकॉईन से वाकेफ थे, जबकि केवल 13 प्रतिशत लोग इथेरियम से वाकेफ थे। इतना कम हो वैसे पिछले एक ही महीने में इथेरियम ने अंदाजित 40 प्रतिशत मूल्य खो दिया था। सिटीग्रुप ने डिजिटल एसेट्स में निवेश करने के लिए नई पद्धति खोज निकाल ने की खबर आने के बाद भी, सोमवार को क्रिप्टो करेंसी दबाव में रही थी। यह योजना में बैंक डिजिटल कोईन की सीधी ओनरशीप नहीं रखकर, निवेशकों के मारफत प्रोक्सी की भूमिका निभाएगी। सोमवार को इथेरियम के भाव घटकर 195.60 डॉलर और बिटकॉईन के 6332.55 डॉलर रहा था।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer