बाबा रामदेव ने `पतंजलि परिधान'' स्टोर शुरू किया

बाबा रामदेव ने `पतंजलि परिधान'' स्टोर शुरू किया
2020 तक 500 शोरूम शुरू करने की योजना 
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । पतंजलि समूह ने तेजी से बढ़ रहे ब्रांडेड कपड़ों के क्षेत्र में कदम रखा है। इन कपड़ों की बिक्री समूह के घरेलू ब्रांड परिधान के तहत की जाएगी। कंपनी ने यहां ब्रांडेड कपड़ों के पहले आउटलेट का उद्घाटन किया। कंपनी का लक्ष्य मार्च, 2020 तक देश भर में 500 शोरुम खोलने और इसे 1000 करोड़ रुपए का कारोबार बनाने का है।
2016 के अंत में बड़े नोटों को बंद करने और उसके बाद जीएसटी को लागू करने से 2017 के मध्य में उसका कारोबार भी प्रभावित हुआ जिससे इस कारोबार को शुरू करने में और देरी हुई।
रामदेव के अनुसार अगले मार्च तक पतंजलि के पास इसके सुपरिचित फ्रेंचाइज मॉडल के तहत 100 दुकानें होंगी। समूह की अग्रणी कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने विगत 10 साल में 10,000 दुकानों का मजबूत फ्रेंचाइज नेटवर्क तैयार किया है।
रामदेव ने कहा कि `परिधान कपड़े अगले साल से ऑनलाइन भी उपलब्ध होंगे। हम इस पर काम कर रहे है।' परिधान ब्रांड के तहत कंपनी ने इस पोर्टफोलियो को तीन भागों में बांटा है- लिवफिट, आस्था और संस्कार। इसके जरिये सभी आयु वर्ग के ग्राहकों को आकर्षित करने का प्रयास किया जाएगा। संस्कार पुरुष वर्ग के लिए है तो आस्था महिला ब्रांड है और लिवफिट में स्पॉर्ट्स वियर और योगा के पोशाक होंगे।
रामदेव ने कहा कि `हमारा लक्ष्य एडिडास और प्यूमा जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से प्रतिस्पर्धा करना है। हमारे उत्पाद 40% तक सस्ते होंगे।'
पिछले एक साल के दौरान पतंजलि ने टूथपेस्ट, शैम्पू और ब्रांडेड घी के तेजी से बिकले वाली उपभोक्ता वस्तुओं के मुख्य कारोबार से इतर कई अलग-अलग खंडों में कदम बढ़ाया है। जबकि 2017 में इसे अपने कारोबार में घाटा उठाना पड़ा था क्योंकि उस साल जुलाई में जीएसटी के लागू होने से दो महीने के लिए उसका कारोबार लगभग ठप पड़ गया था।
योग गुरु बाबा रामदेव ने 5 नवम्बर 2018 यानि धनतेरस के दिन रेडीमेड वस्त्र व्यवसाय में कदम ररख दिया है।जिसको लेकर स्वामी रामदेव ने पतंजलि परिधान के नाम से शोरुम का उद्घाटन किया और पतंजलि परिधान का पहला शोरुम दिल्ली के पीतमपुरा स्थित नेताजी सुभाष प्लेस के अग्रवाल साइबर प्लाजा में खोला गया है।पतंजलि के इस शोरुम में डेनिम से लेकर एथनिक वियर तक सबकुछ बिकेगा।
दरअसल पतंजलि परिधान में पुरुषों,महिलाओं और बच्चों को लेकर सभी तरह के कपड़े मिलेंगे जिसमें डेनिम वियर, एथनिक वियर,कैजुअल वियर और फॉर्मल वियर शामिल है।जिसके तहत पतंजलि परिधान के तहत लिवफिट,आस्था व संस्कार ब्रांड का भव्य प्रस्तुतीकरण किया गया।स्वामी रामदेव के इस वेंचर से देश में आर्थिक आजादी आएगी।
उन्हेंने पतंजलि को देशभक्ति से जोड़ते हुए कहा कि राष्ट्र ध्वज देश की आन,बान व शान होता है और कपड़ा व्यक्ति के व्यक्तित्व की पहचान और सम्मान होता हे।पतंजलि परिधान के तहत सबसे अधिक चर्चा इसके जींस की है।उल्लेखनीय है कि पतंजलि की जबसे गारमेंट व्यवसाय में उतरने की शुरुआत हुई थी तभी से पतंजलि जींस  की चर्चा सोशल मीडिया छा गई थी।एक बार पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण ने कहा भी था कि जींस की लोकप्रियता इतनी है कि उसे भारतीय समाज से अलग नहीं किया जा सकता अब या तो हम इसका बहिष्कार कर सकते है अथवा उसमें अपनी परंपरा के तहत बदलाव कर सकते है।पतंजलि की जींस स्टाइल,डिजाइन व फैब्रिक में भारतीयता होगी और यह काफी आरामदायक भी होगी।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer