भारत से चीन को अगले वर्ष से शुरू होगा कच्ची चीनी का निर्यात

भारत से चीन को अगले वर्ष से शुरू होगा कच्ची चीनी का निर्यात
अगले वर्ष चीन को 20 लाख टन कच्ची चीनी के निर्यात का लक्ष्य 
रमाकांत चौधरी
नई दिल्ली । अगले वर्ष की शुरुआत में भारत से चीन को कच्ची चीनी का निर्यात करने लगेगा।इससे भारत और चीन के बीच व्यापार घाटे को कम करने में मदद मिलेगी।जिससे भारत और चीन के बीच 15000 हजार टन कच्ची चीनी के निर्यात का अनुबंध होगा ।
दरअसल भारत और चीन के बीच कच्ची चीनी के निर्यात को लेकर लंबे अर्से से वाणिज्यक रुप से बातचीत चल रही थी। जिसको लेकर केद्रीय वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से एक बयान जारी करके कहा गया है कि इंडियन शुगर मिल एसोसिएशन (इस्मा) और चीन के सार्वजनिक उपक्रम कॉफ्को के बीच अनुबंध किया गया है। जिसको लेकर केद्रीय वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से कहा गया है केद्र सरकार अगले वर्ष चीन को 20 लाख टन कच्ची चीनी का निर्यात करना चाहती है।जिसके तहत गैर बासमती चावल के बाद कच्ची चीनी दूसरा उत्पाद है जिसका आयात चीन भारत से करेगा।जिसको लेकर केद्रीय वाणिज्य के एक अधिकारी की तरफ से कहा गया है कि चीनी के निर्यात से भारत और चीन के बीच व्यापार घाटे को कम करने में मदद मिलेगी।इस समय चीन से व्यापार में भारत का व्यापार घाटा 60 अरब डॉलर का है यानि भारत जितने मूल्य का चीन को निर्यात करता है उससे 60 अरब डॉलर अधिक मूल्य का आयात करता है।भारत दुनिया में चीनी का सबसे अधिक उत्पादन करने वाला देश है।जिसके तहत 2018 में 3.2 करोड़ टन चीनी के उत्पादन का अनुमान है।भारत में चीनी के तीन प्रकार है जिसके तहत रॉ,रिफाइंड और व्हाईट का उत्पादन किया जाता है।जिसको लेकर भारतीय चीनी को गुणवत्ता वाला माना जाता है क्योंकि गन्ना कटने और उसकी पेराई में लगने वाला समय बेहद कम होता है।जिसके चलते इसमें डेक्सट्रॉन एक तरह का ग्लूकोज पॉलिमर है जो कि बैक्टीरिया के चलते बनता है।जिसको लेकर एक अधिकारी की तरफ से कहा गया है कि बेहतर गुणवत्ता की चीनी होने के चलते भारत में कच्ची चीनी को लेकर चीन का नियमित निर्यात हो सकता है। इसीबीच लगभग एक दशक बाद अगले वर्ष भारत से चीन को चीनी का निर्यात होगा।जिसको लेकर केद्र सरकार की कोशिश है कि अगले वर्ष तक 20 लाख टन चीनी को चीन निर्यात हो सके।जिसको लेकर 15 हजार टन के सौदे हो भी गए है।इसको लेकर इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन के डायरेक्टर जनरल अनिनाश वर्मा ने कहा कि अगले वर्ष के शुरु से चीन को चीन निर्यात करने की पूरी कोशिश है।यद्यपि चीन के अतिरिक्त बंगलादेश,मलेशिया में भी चीनी के निर्यात को शुरु करने की कोशिश है। 

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer