उर्वरक की ढुलाई हेतु रेलवे को किया गया सतर्क

रबी फसलों की बोआई को लेकर हर खेत तक उर्वरक पहुंचाने का बंदोबस्त'
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । रबी फसलों की बोआई को लेकर राज्यों की जरुरत के हिसाब से हर तरह के उर्वरक की आपूर्ति सुनिश्चित कर दी गई है।जिसको लेकर केद्रीय उर्वरक मंत्री डी.वी.सदानंद गौड़ा ने कहा कि फसलों की बुआई को देखते हुए हर खेत तक खाद पहुंचाने का पक्का बंदोबस्त किया गया है।जिसको लेकर केन्दीय उर्वरक मंत्रालय लगातार राज्यों के संपर्क में है।जिसको लेकर केद्र सरकार ने इसे सर्वोच्च प्राथमिकता दी है और खाद की ढुलाई को लेकर रेलवे से अतिरिक्त माल डिब्बों की उपलब्धता के साथ सतर्क रहने को कहा गया है।
उन्होंने कहा कि केद्रीय उर्वरक मंत्रालय की तरफ से खाद कंपनियों के उत्पादन और स्टॉक पर बराबर नजर रखे हुए है।जिसके तहत रबी फसल मौसम की फसलों की बोआई के हिसाब से सबसे अहम समय होने के नाते राज्य के साथ मिलकर खाद की जरुरतों को पूरा करने और इसकी आपूर्ति की निगरानी पर जोर दिया जा रहा है।जिसको लेकर आपूर्ति श्रृंखला की नियमित रुप से निगरानी की जाती है।
उन्होंने कहा कि राज्यों के साथ केद्रीय कृषि व केसान कल्याण मंत्रालय,रेल मंत्रालय और उर्वरक मंत्रालय ने संयुक्त रुप से साप्ताहिक वाडियो कांफ्रेसिंग में गहन समीक्षा की है।जिसको लेकर सभी राज्यों ने खाद का पर्याप्त स्टॉक होने की बात कही गई है।जिसको लेकर रेलवे दैनिक आधार पर उर्वरक आपूर्ति में ट्रेनों के संचालन का समन्वय करता है।जिसको लेकर केद्रीय उर्वरक मंत्री डी.वी.सदानंद गौड़ा ने कहा कि बीते खरीफ फसल मौसम में रेलवे ने उर्वरक की ढुलाई को लेकर पर्याप्त माल डिब्बे उपलब्ध कराए थे।2017 के खरीफ फसल मौसम में उर्वरक ढुलाई को लेकर ढाई सौ से अधिक रेल डिब्बे मुहैया कराए गए थे। वैसे तो चालू रबी फसल मौसम अक्टूबर 2018 से लेकर मार्च 2019) में यूरिया की कुल 15.29 करोड़ टन जरुरत का अनुमान लगाया गया है।यूरिया की यह मांग दिसम्बर के अंत और जनवरी के शुरुआत के सप्ताह में होती है।इस मांग को पूरा करने को लेकर घरेलू कारखानों से तैयार 12.9 करोड़ टन यूरिया के अतिरिक्त आयात किया जा रहा है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer