उत्तर प्रदेश में कताई संघ की मिलों को निजी क्षेत्रों को साøपने का फैसला

निजी उद्यमी कताई मिलों के लिए औद्योगिक क्षेत्र घोषित करने के पक्ष में'
रमाकांत चौधरी''
नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में राज्य के मंत्रिमंडल की बैठक 3 दिसम्बर 2018 को लखनऊ में एक अहम बैठक हुई थी।जिसमें उत्तर प्रदेश की कताई संघ की तरफ से संचालित कताई मिलों को निजी हाथों में सापने का फैसला किया गया है।इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के कानपुर की नौ कताई मिलों को निजी क्षेत्रों में सुर्पूद की जाएगी।बहरहाल उत्तर प्रदेश के निजी उद्यमियों की तरफ से कहा जा रहा है कि यह फैसला कतई फलीभूत नहीं होगा क्योंकि उत्तर प्रदेश की कताई संघ द्वारा संचालित कताई मिलें लगभग दो दशक से बंद पड़ी है और मशीनें जंग लगकर खराब हो चुकी है।ऐसे में उत्तर प्रदेश के निजी उद्यमियों की तरफ से स्पष्ट रुप से कहा जा रहा है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की तरफ से कताई मिलों को सुव्यवस्थित तरीके से संचालन करने को लेकर औद्योगिक क्षेत्र घोषित किया जाए जिससे कि निजी उद्यमियों की तरफ से इन कताई मिलों में दिलचस्पी ले सकेंगे।जिसके तहत निजी उद्यमियों की तरफ से कताई मिलों को लेकर नई आधुनिक मशीनें स्थापित की जा सकेगी।जिससे ही सही मायने में इन कताई मिलों को सुव्यवस्थित पूर्वक संचालित किया जा सकेगा।जिससे इस क्षेत्र में नए रोजगार के अवसर भी सृजित हो सकेंगे।'

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer