राखी की त्योहारी ग्राहकी बढ़ी रेडीमेड निर्माताओं को अच्छे आर्डर मिलने की संभावना

हमारे संवाददाता
इंदौर शहर लॉकडाउन से उबर रहा है । बाजार में रौनक गत् हप्ते अच्छी देखी गई है , मगर कोविड वायरस से डरा या सावधान रहना जनता द्वारा भी आवश्यक समझा गया होने से पुर्व वर्षो जैसी भीड नही थी ।' स्थानीय प्रशासन ने सुबह आठ से शाम आठ बजे तक व्यापार की अनुमति दी है । गत् हप्ते स्थानीय राजनैतिक दलो के व्यापार को पूरा चलाने हेतु किये हो हल्ले बढने और व्यापारिक क्षैत्रो के आश्वासन देने के' कि , प्रशासन के अनुशासन नियमो से बद्व होकर व्यापार' करने पर , ढील दी है ।' स्थानीय प्रशासन ने 31 जुलाई से छ: दिन की पूर्ण क्षैत्र में व्यापार की अनुमति दे दी है । स्थानीय प्रशासन भी इसी बीच अपने पूरे सजगता के साथ रहेगा । थोक मंडी म.तु. क्लाथ मार्केट में सावन और रक्षाबंधन त्योहार की कुछ कुछ ग्राहकी बढने से बाजार रौनकभरा रहा । पूछ-परख के साथ ही थोक ग्राहकी की चहल पहल बढती जा रही' है । सभी श्रेणी में' थोक का कामकाज करने वालो के यहा त्योंहारी आर्डर बुक' होते देखने में आये है । हांलाकि आर्डर तीस की जगह चालीस प्रतिशत तक की बढौत्री होना व्यापारियों द्वारा बतायश जा रहा है । इसमे भी ग्रामीण व्यापारियो की चालान अच्छी रही बताया है ।' शहरो के व्यापारियो के पास पुराना स्टॉक ही अधिक होना बताया जा रहा' इससे इनके आर्डर मे कमी होना बताया गया है । व्यापारियों के अनुसार' निमाडी व्यापारियों की' सूती एवं सिंथेटिक सूटिंग शछटिंग ,सूरत की दानी टाईप साडियां, डेस मटेरियल , और मर्दाना धोतियां तथा कीड्स वियर की अच्छी मांग हुई है इस लिहाज से' उधर ग्राहकी अच्छी' होने की संभावना को बताया जा रहा है । थोक मंडी में फलालेन व्यापरियो और उत्पादककर्ताओं के यहां भी अधिक पूछ-परख् और आर्डर बुकिंग होते हुए देख गया है । फलालेन निर्यातको की भी अच्छी बुकिंग हो रही है । म.तु थोक मंडी में ब्रांड कंपनी के कपडो के सभी डीलर्स के यहां दिसावरी बुकिंग कुछ बढी' है । सियाराम्स , ग्रेसीम के उत्पाद , भीलवाडा के सूंटिग शछटिंग' उत्पादो में 300 रू से लेकर 1000 रू प्रतिमीटर में खासी क्वालिटी है । मिक्स ऐण्ड मैच तथा सिंगल कलर का पेकिंग खूबसूरत मार्केटिंग के प्रतीक बनते जा रहे हे । सियाराम सूटिंग का कामकाज अच्छा हो रहा है ।' पूछ परख बड रही है उससे लगता है कि इसमे आगे भी अच्छे व्यापार की संभावना है । सस्ते पापलीन में झंडा कलर की भी काफी डिमांड बताई जा रही है । खेरची कपडा और गारमेंट व्यापार तरफ रक्षाबंधन की खरीदी भरपूर भीड बनी रह रही है ।' तैयार वस्त्र' भारत के बडे शहरो के' फ क्षक्षटपाथो पर भारी मात्रा में सस्ते में बिक रहा है जिसमें बढ जाने की संभावना है जिससे स्थानीय तैयार वस्त्रो का उद्योग कमाईz में फल-फूल रहा बताते है ।' आयातित कॉटन' और भारतीय उत्पादका बढने से कॉटन के भावो में आई कमी से यार्न बाजार फाईन क्वॉलिटी' यार्न के भावो में कमी आ सकती है जिससे फाईन्र क्वालिटी कपडा बुनकरो को फायदा भी पहुंचा सकता है । रेडिमेड गार्म़ेंट दूकानो तरफ खासी भीड बढी' है । कई व्यवसाई 100 से लेकर 250 रू तक की बढिया सेल लगाये बैठे है ।' सूती शर्टिगं में एनकॉट,बीआई टेक्सटाईल,सेंचुरी,बेंटेक्स और सूटिंग में आईकोन आशिमा,अरविंद और' सेंचुरी की मांग चल रही है । प्योर सूती और लिनन् कपडो के लिये के लिये माहेश्वरी कॉटन जंक्शन' और सेचूरी कपडो के लिये राजेंद्र गंगवाल पर अच्छी ग्राहकी देखने में आई हे ।' लेडिज में श्रुति सलवार सूट्स बुकिंग में अग्रणी है ।'
सीजन के फैशन गारमेंट में फूल साईज का डिजाईनर कुर्ता और पलाजो की भारी मांग है । कई प्रकार के' पोस्टर डिजाईन के साथ केरी बैग महिलाओ के लिये मार्केटिंग का फंडा बढता जा रहा है । श्रुति सलवार-सूट्स के निर्माता अंकुर सेठी का कहना है कि वर्तमान में 30 प्रतिशत की ग्राहकी और मार्केटिंग में भारी कांपिटिशन के बावजूद श्रुति के वस्त्रो की 500 रू से लेकर 1000 रू तक के फैशन युक्त डिजाईन की' थोक मांग अधिक है । इंदौर के साथ ही पूरे देश के विभिन्न क्षैत्रो से आर्डर मिलते रहते है । उनके अनुसार सरकार निर्यात प्रोत्साहन के कारण और चाईना के माल की दुनियाभर में मांग घटने से कपडा और गारमेंट उद्योग के लिये अच्छी खबर है । कपडा उत्पादन के क्षैत्र मे भारत का इतिहास हमेशा से ही उन्नतशील' देशो के बराबर रहा है और घरेलु आवश्यकताओं की पूर्ति करते हुए भी हमेशा कपडा एवं वस्त्र निर्यात मे भी सदैव बना रहा । देश के उद्योग पनपते रहे और विदेशी से प्रतिस्पर्धा तगडे रूप में की जा सके । अंतर्राष्टिय स्तर पर जैसे जैसे कपडे की गुणवत्ता बढती जा रही है वैसे वैसे भारत' कपडे मे अपना विकसीत टेक्नालॉजी के माध्यम से विकास करता जा रहा है यहॉ तक की अब तैयार वस्त्रो का भी अंतर्राष्टिय स्तर निर्माण कर निर्यात मे हिस्सेदारी बढाता जा रहा है ।''

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer