चीन के खिलौने, स्टील और रबड़ की वस्तुओं सहित 370 वस्तुओं पर बीआईएस मानक होगा लागू

चीनी माल के चारों ओर शिकंजा और कसने की पैरवी
नई दिल्ली। भारत का चीन के खिलाफ आर्थिक युद्ध उत्तरोत्तर उग्र बन रहा है। चीन के माल का आयात घटाने के उद्देश्य से सरकार विदेश से आने वाली अनेक वस्तुओं के लिए गुणवत्ता के मानक सख्त बनाने की पैरवी में है। खिलौना, स्टील का सरिया और ट्यूब, उपभोग के इलेक्ट्रिक साधन, टेलीकॉम उद्योग में प्रयुक्त होने वाली वस्तुएं, भारी यंत्र सामग्री, कागज,' रबड़ की वस्तुएं और कांच जैसी वस्तुओं का चीन से बड़े पैमाने पर आयात होने से 370 वस्तुओं को' मार्च तक में ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स( बीआईएस) के तहत लाया जाएगा।'
इसके कारण हल्के प्रकार की वस्तुओं के आयात पर नियंत्रण आएगा। वाणिज्य मंत्रालय ने गत वर्ष इन वस्तुओं को अलग किया था। अब अनावश्यक वस्तुओं के आयात को घटाकर और निर्यात बढ़ा कर आत्मनिर्भर भारत के उद्देश्य को सिद्ध करने के लिए इस प्रक्रिया को त्वरित किया जाएगा।'
बीआईएस के डायरेक्टर जनरल प्रमोद कुमार तिवारी ने कहा कि वाणिज्य मंत्रालय ने चीनी माल सहित 371 वस्तुओं की सूची तैयार की है। हम इन वस्तुओं के लिए गुणवत्ता के मानक सख्त बना रहे है। हम कंडला, जेएनपीटी और कोचिन सहित के बड़े बंदरगाहों पर इन मानकों का सख्ती से पालन करने के लिए हमारे खास अधिकारियों को रखने सहित के कदम उठा रहे हैं।'''
उन्होंने कहा कि' हमारे पास विभिन्न मंत्रालय गुणवत्ता के मानक निश्चित करने के लिए आ रहे हैं।'
अधिकांश वस्तुओं के लिए गुणवत्ता के मानक दिसंबर के अंत तक में और बाकी की वस्तुओं के लिए मार्च के अंत तक में घोषित हो जाएंगे। स्पष्ट है कि इसका निशाना चीन से आने वाली वस्तुएं हैं। भारत सरकार मात्र चीन से आने वाली वस्तुएं ही नहीं बल्कि चीनी स्वामित्व के एप्स के उपयोग को भी बंद करने की इच्छुक है। पिछले महीने चीनी स्वामित्व के 59 एप्स पर प्रतिबंध लगाने के बाद हाल में उनकी प्रतिकृति जैसे अन्य 47 एप्स पर प्रतिबंध लगाया गया था। कुल मिलाकर 250 एप्स पर सरकार नजर रख रही है।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer