श्रीलंका से कालीमिर्च का बेरोकटोक आयात

श्रीलंका से कालीमिर्च का बेरोकटोक आयात
रु.57 करोड़ की विदेशी मुद्रा का नुकसान 
आयात नियमों का लाभ उठाकर हवाला घोटाले की आशंका : किशोर शामजी 
हमारे प्रतिनिधि 
मुंबई। आयात में छूट का अनुचित लाभ उठाकर काली मिर्च का हो रहा आयात बंद करने के लिए और घरेलू व्यापारियों और उत्पादकों के साथ हो रहे अन्याय को आवाज देने के लिए इंडियन पेपर एंड स्पाइस ट्रेडर्स, ग्रोवर्स, प्लांटर्स कंसोर्सियम के केरल चैप्टर के को-आर्डिनेटर किशोर शामजी द्वारा छेड़े गए जंग को हाल के आंकड़ों से समर्थन मिला है। काली मिर्च के आयात के जनवरी से अगस्त, 2020 के आंकड़े देखे तो कुल 1900 टन  के आयात में से रु.500 से ऊंचे भाव पर 439 टन का आयात श्रीलंका से किया गया है। इस अवधि में 4000 अमेरिकन डॉलर के हिसाब से 75.06 लाख डॉलर अर्थात फिलहाल के रु.75 प्रति डालर विनिमय दर के हिसाब से रु.56.82 करोड़ हवा ला या मनी लांड्रिंग के मार्फत देश से ट्रांसफर किए जाने की आशंका किशोर शामजी ने व्यक्त किया है। 
उन्होंने आगे कहा कि इतने अनुरोधों और घरेलू काली मिर्च का भाव प्रति किलो रु.300- 350 होने के बावजूद न्यूनतम आयात भाव प्रति किलो 500 है। रोचक बात यह है कि वियतनाम से बड़े पैमाने पर किया गया आयात 70% के सामान्य कर के स्थान पर आसियान के तहत 50% ड्यूटी अदा कर किया गया था। ऐसा प्रतीत होता है कि वह फिर से बंगलुरु के रास्ते सक्रिय है और बंगलुर इन लैंड कंटेनर डिपो (आईसीडी) से श्रीलंका से रु.500 के न्यूनतम आयात भाव पर आयात किया गया है। डायरेक्टर जनरल आफ फॉरेन ट्रेड (डीजीएफटी) के मार्फत भारत सरकार इस आयात के बारे में वाणिज्य मंत्रालय तहत का आईएसएफटी साफ्टा द्विपक्षीय करार के तहत जांच कर रहा है। इसके बावजूद राष्ट्र विरोधी प्रवृत्तियों के लिए हवाला या मनी लांड्रिंग की आशंका वाले, बड़े पैमाने पर विदेशी मुद्रा ले जाने वाले इस आयात के बारे में कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की है। 
कंसोर्सियम द्वारा मुद्दे पर हाल के वेबीनार के मार्फत डीजीएफटी के उच्चाधिकारियों के समक्ष अनुरोध किए जाने की बात करते हुए किशोर शामजी ने कहा कि अगस्त महीने में ?500 प्रति किलो से ऊंचे भाव पर श्रीलंका से काली मिर्च का आयात करने वाले व्यापारियों में भीखन लाल राजकुमार ओवरसीज(15000 किलो), आदर्श ट्रेडिंग कंसंर्स (14000 किलो), आरके ओवरसीज, रोजमेरी इंटरनेशनल(30000 किलो), सदर्न ट्रेड लिंक्स, एन एंड एन ट्रेडर्स, वीनस इंपैक्स, यमुना ट्रेडर्स, फिरदोस इंटरनेशनल ट्रेडिंग, श्री बालाजी ट्रेडर्स, साईं कृपा एसोसिएट्स और ग्लोबल मेट्रो शामिल है। इन व्यापारियों ने पहले की तरह ही तूतीकोरिन, नहावा शेवा, चेन्नई सी तुगलकाबाद बंदरगाह से आयात किया है इसमें बंगलुरु आईसीडी का समावेश हुआ है। अगस्त में ही ?500 से नीचे भाव पर वियतनाम, इंडोनेशिया, श्रीलंका, ब्राजील, इक्वाडोर से काली मिर्च का आयात हुआ है।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer