आईडीबीआई में पूरी हिस्सेदारी निजी को क्षेत्र को साøपने की तैयारी

आईडीबीआई में पूरी हिस्सेदारी निजी को क्षेत्र को साøपने की तैयारी
हमारे संवाददाता 
नई दिल्ली । बøकों के निजीकरण को लेकर केद्र सरकार अधिक इंतजार नहीं करेगी।जिसको लेकर आम बजट 2021-22 में दो सरकारी बøकों के साथ आइडीबीआइ के निजीकरण का ऐलान किया गया था।वित्त वर्ष 2021-22 की शुरुआत के साथ ही आइडीबीआइ के निजीकरण की प्रक्रिया शुरु करने की तैयारी है।जिसको लेकर केद्र सरकार की तरफ से जो प्रस्ताव तैयार किया है जिसके तहत आइडीबीआइ बøक में केद्र अपनी ओर एलआइसी की पूरी हिस्सेदारी निजी क्षेत्र को बेचेगा।जिसको लेकर अगले कुछ दिनों में केन्दीय कैबिनेट से प्रस्ताव को मंजूरी मिलने की संभावना है।
दरअसल आइडीबीआइ में केद्र सरकार ने अपनी 51 प्रतिशत हिस्सेदारी 2019 में सरकारी क्षेत्र की जीवन बीमा कंपनी एलआइसी की बेची थी।जिसके बाद इस बøक का स्वरुप सरकारी से बदलकर निजी कर दिया गया था।अभी इसमें एलआइसी की 51 प्रतिशत और केद्र सरकार की 47.11 प्रतिशत हिस्सेदारी है।इस तरह से देखा जाए तो सफलतापूर्वक बोली लगाने वाले संस्थान को इस बैंक में एकमुश्त 98 प्रतिशत हिस्सेदारी मिलेगी।आइडीबीआइ की खरीदने के लिए विदेशी बøक भी बोली लगा सकेंगे।हालांकि उन्हें बøकिंग सेक्टर में निवेश संबंध सारे निर्देशों का पालन करना होगा।निवेशकों के लिए बड़े पैमाने पर रोड शो आयाजित किया जाएगा।आइडीबीआइ बøक के निजीकरण की प्रक्रिया एक तरह से इस वित्त वर्ष में होने वाले दो अन्य सरकारी बøकों के निजीकरण की राह भी निकालेगी।आइडीबीआइ बøक रोड शो देशी-विदेशी निवेशकों के समक्ष भारतीय बøकिंग को सही तरीके से पेश करने का मौका है जिसे केद्र सरकार गंवाना नहीं चाहती है।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer