नई टेक्नोलाजी का उपयोग अति आवश्यक

नई टेक्नोलाजी का उपयोग अति आवश्यक
रिसन्ट ट्रेन्ड्स इन फैब्रिक फॉर्मिंग के बारे में दी टेक्सटाइल एसो.-मुंबई द्वारा वापी में सेमिनार
 
हमारे प्रतिनिधि 
सूरत। कपड़ा उद्योग के मांधाताओं को एक प्लेटफार्म पर लाने के लिए `दी दिवसीय सेमिनार' में विशेषज्ञों ने एक सुर में कहा कि कपड़ा उद्योग में और खासकर टेक्निकल टेक्सटाइल क्षेत्र में विकास के अनेक अवसर छुपे है। आज के युग में वैश्विक प्रतिस्पर्धा में टिके रहने और विकास की रफ्तार तेज करने के लिए उद्यमियों ने संशोधन के साथ नवीनतम टेक्नोलाजी का उपयोग कर आगे बढ़ाने का समय है। 
दी टेक्सटाइल एसो. (इंडिया) के मुंबई यूनिट द्वारा रिसन्ट ट्रेन्ड्स इन फैब्रिक फार्मिंग विषय पर सेमिनार का आयोजन वापी में किया गया था। मुख्य मेहमान के तौर पर उपस्थित कुसुमगर कार्पोरेट्स प्रा. लि. के चेयरमैन योगेश कुसुमगर ने कहा कि थिंक इनोवेशन पर उद्यमियों को विचार करने की जरूरत है। 
दुनियाभर में प्रतिस्पर्धा में टिके रहने और देश की उद्योग क्षमता साबित करने के लिए उद्यमियों को थिंक इनोवेशन पर जोर देना चाहिए। इसके लिए कपड़ा उद्योग के संगठनों ने एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन करना चाहिए। 
मुख्य वक्ता सुप्रीम नानवूवन्स इंडस्ट्रीज प्रा. लि. के मैनेजिंग डायरेक्टर मोहन कावेरी ने कहा कि वैश्विक और स्थानीय किस प्रकार का ट्रेंड है उसका ध्यान रखकर संशोधन आवश्यक है। अत्याधुनिक टेक्नोलाजी के उपयोग से गुणवत्ता के साथ फैब्रिक बाजार में उतारने के लिए स्थानीय उद्यमी सक्षम है।
सूरत। दी इंडिया इंटरनेशनल टेक्सटाइल मशीनरी एक्जी. सोसायटी इंडिया (इटमे) के एक्जी. डायरेक्टर सीमा श्रीवास्तव ने युवा उद्यमियों को कहा कि आने वाला समय टेक्निकल टेक्सटाइल का होगा। टेक्निकल टेक्सटाइल में अत्याधुनिक मशीनरी के उचित उपयोग से उत्तम उत्पादन हो किया जा सकता है। इटमे द्वारा आयोजित प्रदर्शनी में कपड़ा उद्योग के उद्यमियों को प्रोत्साहन मिला है और आने वाले समय में इटमे अधिक से अधिक आकर्षक आयोजनों द्वारा कपड़ा उद्योग के भरते उद्यमियों के लिए विकास का नया द्वार खोलेगा।
दी टेक्सटाइल एसो. (इंडिया) के मुंबई यूनिट के प्रमुख विकास घराटे ने कहा कि गुजरात सरकार आकर्षक कपड़ा नीति जारी करे तो यहां के उद्यमी वैश्विक क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा के लिए सक्षम ह। 

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer