खादी कपड़ा-परिधान : निर्यात में भारी वृद्धि

खादी कपड़ा-परिधान : निर्यात में भारी वृद्धि
खादी ग्रामोद्योग का कारोबार रु. 70 हजार करोड़ पर पहुंचाने का लक्ष्य 
रमाकांत चौधरी 
नई दिल्ली । पिछले कुछ वर्षो से घरेलू बाजार में खादी कपड़ा एवं परिधान की कारोबारी गतिविधियों में तेजी से बढोतरी हुई है। जिसके बाद अब खादी कपड़ा एवं परिधान के निर्यात में तेजी से वृद्वि हो रही है।ऐसे में खादी कपड़ा-परिधान की कारोबारी गतिविधियां आगामी वर्ष़ों में देश व विदेश में चरम पर परचम लहाराने की उम्मीद परिलक्षित हो रही है।जिससे देश के खादी ग्रामोद्योग क्षेत्र में बेहद सकारात्मक कारोबारी माहौल बन गया है।जिससे स्वभाविक है कि खादी ग्रामोद्योग के क्षेत्र में कार्यरत कामगारों को रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त हो रहा है । 
दरअसल देश भर के खादी ग्रामोद्योग की तरफ से आज के आधुनिक समाज के दृष्टिगत खादी कपड़ा-परिधान को निर्मित करने में फिनिशिंग व साइनिंग पर विशेष रुप से जोर दिया जा रहा है ताकि गुणवत्तायुक्त होकर नए डिजाइन,पेटर्न,कलर व लुक से आकर्षक हो सकेगा और सभी वर्गो को अपनी ओर आकर्षित करने में कामयाब हो सकेगा।जिससे खादी कपड़ा-पबरिधान  के उद्योग व्यापार के क्षेत्र में सकारात्मक कारोबारी माहौल बन सकेगा।जिसको लेकर बतौर प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी ने अपने सार्वजनिक सभाओं में कई बार देश के युवाओं से खादी कपड़ा एवं परिधान की खरीदी करने को लेकर अहम अपील कर चुके है।जिसके उपरांत पीएम मोदी की अपील से प्रभावित होकर देश के युवाओं में खादी कपड़ा एवं परिधान के पहनने का क्रेज तेजी से बढ रहा है और खादी कपड़ा-परिधान की खरीदी में तेजी से बढोतरी हो गई है।जिससे खादी कपड़ा-परिधान का घरेलू कारोबार ही नहीं तेजी से फल फूल रहा है बल्कि अब विदेशों में खादी कपड़ा-परिधान ने अपनी कारोबारी पैठ बनाने में विशेष रुप से कामयाब हो रहा है।जिससे उत्साहित होकर खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के प्रबंधक निदेशक श्री वी.के.सेक्सेना ने कहा कि खादी ग्रामोद्योग से संबंधित खादी ग्रामोद्योग का कारोबार पिछले वित्त वर्ष में 52 हजार करोड़ के स्तर पर पहुंच गया था।वहीं अब चालू वित्त वर्ष 2018-19 के अंत तक खादी ग्रामोद्योग का कारोबार 70 हजार करोड़ रुपए तक पहुंचाने का लक्ष्य है।जिसको लेकर सभी तरह की कारोबारी प्रक्रिया अपनाई जा रही है जिसको लेकर चौतरफा ध्यान केद्रित की जा रही है जिससे यह लक्ष्य अवश्य हासिल किया जा सकेगा।वैसे भी आजकल भारतीय नेता हो या अभिनेता या देश के युवावर्ग खादी कपड़ा-परिधान को पहनने में विशेष रुप से फक्र महसूस कर रहे है।जिससे स्वभाविक है कि खादी कपड़ा-परिधान का कारोबारी दायरा आगे बढने की उम्मीद है और आगे कारोबार नए शिखर को छूने को लेकर विशेष रुप से अग्रसर हो रहे है। जिससे खादी कपड़ा एवं परिधान के उद्योग व्यापार में युवा कारीगरों व बुनकरों को विशेष रुप से रोजगार के अवसर प्राप्त हो सकेंगे।जिससे खादी कपड़ा एवं परिधान के विकास के क्षेत्र में नया कीर्तिमान हासिल करेगा।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer