हैंडलूम उत्पाद : निर्यात बढ़ाने के व्यापक सुअवसर

हैंडलूम उत्पाद : निर्यात बढ़ाने के व्यापक सुअवसर
मुंबई। हैंडलूम उत्पाद पर्यावरण अनुकूल होते है तथा मुख्यत: उनकी प्रकृति आर्गेनिक होती है जिससे इन उत्पादों का निर्यात बढ़ाने के लिए व्यापक सुअवसर है।
यहां नहेरू सेन्टर में एक्जिम बैंक द्वारा हैंडलूम प्रोडक्ट्स एवं कंटेम्पोरेटी क्राफ्ट्स पर आयोजित एक्जिम बाजार नामक तीन दिवसीय प्रदर्शनी में ``इंडियन हैंडलूम इंडस्ट्री: प्रोटेंशियल एंड प्रास्पेक्ट्स'' नामक एक्जिम बैंक की अध्ययन रिपोर्ट पेश की गई।
भारतीय संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने एवं उसे परिरक्षित रखने में हैंडलूम उद्योग की महत्वपूर्ण भूमिका है। स्पिनिंग, वीविंग एवं प्रिन्टिंग कौशल के लिए कारीगर विश्वविख्यात है।
भारत का 2017-18 के दौरान हैंडलूम उत्पादों का निर्यात 353.9 मिलियन डालर हुआ। वैश्विक मांग एवं घरेलू आपूर्ति स्थिति के एक विश्लेषण से संकेत मिलता है कि विश्वभर में हैंडलूम उत्पादों की अच्छी मांग है यद्यपि भारत अंतरराष्ट्रीय बाजार में स्वयं को उचित ढंग से पेश करने में समर्थ नहीं है। 2013-14 से 2017-18 तक गत 5 वर्ष में हर वर्ष निर्यात में गिरावट दिखायी दी है। अध्ययन में ऐसे उत्पादों की पहचान की गई है जहां भारत अपना निर्यात बढ़ा सकता है तथा विश्व बाजारों में अपना हिस्सा बढ़ा सकता है।
पर्यावरण के प्रति सचेत लोगों के बीच ग्रीन क्लोदिंग की मौजूद भारी संभावना को देखते हुए अध्ययन में कहा गया है कि हैंडलूम क्षेत्र द्वारा इस संभावना का पूरा लाभ उठाया जाना चाहिए।
भारत के पर्यावरण अनुकूल हैंडलूम उत्पादों को एक नए ब्रांड नाम के तहत बेचा जा सकता है जो फैब्रिक की गुणवत्ता एवं पर्यावरण के प्रति अनुकूलता पर रोशनी डाल सकता है। 

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer