निवेशकों को भारतीय कपास में निवेश से होगा फायदा

निवेशकों को भारतीय कपास में निवेश से होगा फायदा
अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार 
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । पिछले कुछ माह से अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार चल रहा है।जिससे चीन की भारतीय कपास में मांग बढी है।ऐसे में निवेशकें को भारतीय कपास में निवेश करने से विशेष फायदा होगा। 
दरअसल देश में पहली अक्टूबर से कपास का मौसम शुरु हो गया है और कपास की कीमत लगभग 7/8 प्रतिशत तक लुढक गया है।जिसके बावजूद अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार चलने के चलते निवेशकों को कपास में निवेश करने से विशेष फायदा होगा।चूंकि इस बार मानसून की बारिश कम होने के चलते देश में कपास की उपज घटने की आशंका है।जिसके तहत गुजरात में सामान्य से 25 प्रतिशत कम बारिश हुई है।जिससे गुजरात में कपास की पैदावार 13 प्रतिशत घटने का अनुमान है।यद्यपि लगभग 22 लाख गांठ कपास का बकाया स्टाक होने का अनुमान है।इस वर्ष पिछले एक दशक में कपास का बकाया स्टाक सबसे कम है।ऐसे में अमेरिका व चीन के बीच ट्रेड वार चल रहा है।जिससे चीन की भारतीय कपास में मांग बढी है।जिसके तहत भारतीय कपास का अग्रिम सौदे हो रहे है।ऐसे में लगभग 16 लाख गांठ कपास के अग्रिम सौदे हुए ह।वहीं अगले वर्ष चीन को भारतीय कपास की 40 लाख गांठ के सौदे होने की उम्मीद है।ऐसे में इस वर्ष भारतीय कपास का 70 लाख गांठ निर्यात होने की उम्मीद है।वैसे भी डॉलर की तुलना में रुपए की रिकॉर्ड मंदी से कपास के निर्यात में पड़तल लग रहा है और आगे कपास निर्यात में तेजी का रुख बनने के आसार नजर आ रहे ह।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer