निर्यात को बढ़ावा देने की विशेष योजना

निर्यात को बढ़ावा देने की विशेष योजना
घरेलू कपड़ा उद्योग : व्यापक कार्य योजना तैयार करने का आग्रह
रमाकांत चौधरी  
नई दिल्ली । वैश्विक निर्यात बाजार में बढत बनाने को लेकर केद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग और नागर विमानन मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने घरेलू कपड़ा उद्योग से व्यापक कार्ययोजना तैयार करने का आग्रह किया है।जिससे कि भारतीय कपड़ा निर्यात को विशेष रुप से बढावा मिल सकेगा। 
इस बाबत भारतीय कपड़ा उद्योग के परिसंघ के वैश्विक सम्मेलन को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में संबोधित करते हुए श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि केद्र सरकार कपड़ा उद्योग को सभी संभव सहायता देने को लेकर इच्छुक है।उन्होंने कहा कि अनुकूल लागत और उचित एकीकरण के साथ कपड़ा उद्योग में निवेश को अधिक से अधिक बढाकर कपड़ा एवं रेडीमेड वस्त्रों के इस उद्योग में योगदान बढाया जा सकता है।नई और अधिक कुशल प्रौद्योगिकियें और प्रक्रियाओं में निवेश करने से अधिक बेहतर उत्पादों को तैयार किया जा सकेगा।
श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि भारतीय कपड़ा उद्योग को अपने दृष्टिकोण के साथ साथ प्रौद्योगिकी को भी आधुनिक बनाना चाहिए।जिससे कपड़ा उद्योग पड़ोसी देशों की तुलना में प्रतियोगी लाभ अर्जित करने के साथ साथ पूरी मूल्य श्रृंखला में उत्पादों की किस्मों में विविधता आएगी।उन्होंने कहा कि केद्रीय वाणिज्य मंत्रालय निर्यात को बढावा देने को लेकर बेहतर तालमेल के लिए सभी मंत्रालयों के साथ व्यापक प्रयास कर रहा है।
उन्होंने यह भी कहा कि कपड़ा उद्योग को अमेरिका और यूरोपीय देशों के अतिरिक्त अन्य देशों को भी अपने उत्पादों का निर्यात करने के लिए भी प्रयास करना चाहिए।जिसको लेकर केद्र सरकार संभावित निर्यात भागीदारी की पहचान करने और उनके साथ संबंधों को मजबूत करने को लेकर कोशिश कर रहा है।उन्होंने कहा कि यूरोपीय देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौते से कपड़ा उद्योग पर दबाव कम होगा और इससे प्रतिस्पर्धा में बढोतरी होगी। जिसको लेकर केद्र सरकार की तरफ से यूरोपीय देशों और ऑस्ट्रेलिया के साथ मुक्त व्यापार समझौतों के बारे में जल्द से जल्द वार्ता करने की भी इच्छुक है। 

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer