टेक्सटाइल फंड स्कीम को सरल बनाने की योजना

टेक्सटाइल फंड स्कीम को सरल बनाने की योजना
मुंबई । टेक्सटाइल खिलाड़ियों को प्रमुख राहत में टेक्सटाइल मंत्रालय द्वारा शीघ्र ही संशोधित टेक्नोलाजी फंड्स स्कीम (एटीयूएफएस) के तहत संशोधित मानकों की घोषणा किए जाने की संभावना है।
टेक्सटाइल खिलाड़ियों द्वारा एटीयूएफएस के तहत उसके जटिल ढांचे के कारण लाभ प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना किए जाने के चलते टेक्सटाइल मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के तत्वावधान में स्टीयरिंग कमिटी की बैठक हुई। सरलीकरण करने के मानकों पर विचार-विमर्श करने के लिए यह बैठक हुई।
उद्योग को उम्मीद है कि मंत्रालय द्वारा शीघ्र ही स्कीम को उद्योग अनुकूल बनाने के लिए प्रतिनिधि संस्थाओं समेत उद्योग के वरिष्ठ पदाधिकारियों की मीटिंग बुलायी जाएगी।
इस वास्तविकता से जटिलता का अंदाजा लगाया जा सकता है कि टेक्सटाइल मंत्रालय को जनवरी, 2016 में इसकी शुरूआत होने से एटीयूएफएस का लाभ प्राप्त करने के 8160 आवेदन प्राप्त हुए। उनमें से सरकार ने 6400 परियोजनाओं के लिए यूनिक आइडेंटिटी नंबर जारी किए गए।
23 बिलियन रु. के वार्षिक बजटीय आबंटन और लगभग 18 बिलियन रु. के दावा में से सरकार ने मात्र 3.5 बिलियन रु. जारी किया। सदर्न इंडिया मिल्स एसोसिएशन (सिमा) के के. सेल्वराजू ने कहा कि सरकार के पास फंड फंस जाने के कारण बहुत सी इकाइयां वित्त की कमी का सामना कर रही है। उन्हें वित्तीय संस्थाओं से कर्ज लेना पड़ा। सरकार के पास फंसे कर्ज के लिए उन्हें ब्याज अदा करना पड़ रहा है।

© 2018 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer