हेल्थ इंश्योरेंस खरीदना होगा महंगा

हेल्थ इंश्योरेंस खरीदना होगा महंगा
कोर्ट के निर्देश के चलते बीमा कंपनियां बढ़ा रही कीमत    
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । अब जीवन खरीदना पहले की तुलना में सस्ता और आसान हो गया है।बहरहाल स्वास्थ्य बीमा काफी महंगा हो गया है और आगे और महंगा होने की आशंका है।
दरअसल देश की आबादी के जीवन जीने की आयु अपेक्षाकृत बढी है जिसके चलते जीवन कवर कीमत कम हुई है।बहरहाल स्वास्थ्य कवर की कीमत बढती जा रही है।जिसको लेकर कोर्ट के निर्देशों को माना जा रहा है।जिसके तहत कोर्ट की तरफ से हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों पर इंश्योरेंज में एचआईवी,मानसिक रोगों को शामिल करने का दबाव डाला जा रहा है जो कि अब तक इससे बाहर रखा गया था।ऐसे में स्वास्थ्य कंपनियां कुछ गंभीर बीमारियों को लेकर अलग से एक अलग से स्वास्थ्य कवर लेकर लाया जाता था बहरहाल कोर्ट की तरफ से इसमें कमी करने का निर्देश दिया गया है।ऐसे में इंश्योरेंज कंपनियों को अब अपने सभी उत्पादों के साथ दोबारा काम करना पड़ रहा है।जिसमें जरुरी बदलाव के बाद इन्हें बीमा नियामक के पास फाइल करना होगा।जिसके तहत मोर्टेलिटी लेबल में लगभग 10 प्रतिशत सुधार देखा गया है।जिसको लेकर इंस्टीटय़ूट ऑफ एक्चुएरीज ऑफ इंडिया ने तैयार किया है।उल्लेखनीय है कि बीमा कंपनियां इंश्योरेंस की कीमत मोर्टेलिटी के आधार पर तय करती है।ऐसे में संभव है कि यह जीवन बीमा कंपनियां नई मोर्टेलिटी टेबल के आधार पर कीमत नहीं तय करें क्येंके जीवन बीमा की कीमत पहले से ही कम है।वहीं भारत में टर्म इंश्योरेंस रेट ऑस्ट्रेलिया की तुलना में अपेक्षाकृत सस्ती है जबकि ऑस्ट्रेलिया में जीवन जीने की औसत आयु अधिक है।ऐसे में वैश्विक बीमा कंपनियां भारत में जीवन बीमा कम दर पर उपलब्ध करा रही है।वैश्विक बीमा कंपनियों को भारत में जीवन बीमा को लेकर काफी संभावनएं नजर आ रही है।ऐसे में वह कम दर पर जीवन बीमा दे सकती है।वैसे भी नई टेक्नोलॉजी के चलते जीवन बीमा ऑपरेशन की लागत कम हो रही है। 

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer