पीडीएस में पहली मार्च से मिलेगा फोर्टिफाइड चावल

हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । देश की दो तिहाई आबादी को खाद्य सुरक्षा देने के के बाद केद्रं सरकार अब कुपोषण के खिलाफ लड़ाई की तैयारी कर रही है।जिसके तहत तीन वर्ष के अंदर कुपोषण को समाप्त करने को लेकर केद्र सरकार 15 राज्यों में फोर्टिफाइड चावल की शुरुआत कर रही है।यह कुपोषण से लड़ने में मददगार होगा।जिसको लेकर फोर्टिफाइड चावल की शुरुआत पहली मार्च से शुरु होने की उम्मीद है।
केद्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि शुरुआती दौर में देश के 15 राज्यों के अति पिछड़े जिलों में फोर्टिफाइड चावल की शुरुआत की जाएगी।जिसको लेकर एक वरिष्ठ अधिकारी की तरफ से कहा गया है कि इन राज्यों के चिन्हित जिलों में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत फोर्टिफाइड चावल उपलब्ध कराए जाएंगे।जिसके तहत पीडीएस के तहत  वितरित किए जाने वाले चावलों में आयरन,फोलिक एसिड और विटामिन बी-12 जैसे माइक्रोन्यूट्रिएंट्स से तैयार फोर्टिफाइड राइस कर्नेल मिलाए जाएंगे।यह कर्नेल सौ किलो चावल में एक किलो मिलाए जाएंगे।जिसको लेकर एफएसएसएआई के फार्मूले से तैयार होने वाले कर्नेल के दाम 60 रुपए प्रति किलोग्राम के आसपास है।चूंकि इस समय देश में छह माह से पांच वर्ष के 58 प्रतिशत बचे,हर आयु की 53 प्रतिशत महिलाएं व 22 प्रतिशत पुरुष एनीमिया के शिकार है।जिसको लेकर खाने में अतिरिक्त माइक्रोन्यूटिएंट्स देना जरुरी है।जिन राज्यों में पीडीएस के तहत फोर्टिफाइड चावल की शुरुआत होगी उनमें उत्तर प्रदेश,बिहार और झारखंड शामिल है।वहीं फोर्टिफाइड चावल को लेकर
उपभोक्ता को कोई अतिरिक्त कीमत नहीं चुकानी होगी।जिसको लेकर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत उपलब्ध कराए जाने वाले चावल के फोर्टिफाइड का खर्च केद्र और राज्य सरकार मिलकर वहन करेगी।
 

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer