नगदी आवागमन में कमी, कपड़ा व्यापार प्रभावित

नगदी आवागमन में कमी, कपड़ा व्यापार प्रभावित
चुनावी आचार सहिंता लागू होने के बाद 
चुनावी आचार सहिंता लागू होने के बाद नगद रकम लाने-ले जाने पर कड़ी नजर रहने से कपड़ा व्यापार को काफी नुकसान पहुंचेगा, उल्लेखनीय है कि सूरत में प्रतिदिन हजारों महिलाएं व कपड़े की फेरी वाले फेरिये आते है जो नगद राशि मे ही कपड़ा खरीदते हैं, उन्हें अब नगद राशि लाने पर डर रहेगा, दरअसल सूरत से 8-10 घण्टे से लेकर 3-4 घण्टे की दूरी पर बसे सेकड़ो शहर व कस्बे हैं, राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र तथा गुजरात से भी प्रतिदिन हजारों की तादाद में कारें, जीपें, व टैक्सियां सूरत पहुंचती है जिसमे घर पर साड़ियां, सलवार सूट आदि कपड़े का कारोबार करने वाली महिलाएं व छोटे व्यापारी तथा फेरिया सूरत पहुंचते हैं, ये छुटक व्यापार प्रतिदिन करोड़ो की राशि मे होता हैं, चुनाव आयोग के फरमान पकाात देश के हर शहर हर कस्बे में पुलिस आदि सरकारी कर्मचारी जहां मुस्तेदी से व चौकन्नी निगाहे रखे निगरानी करते हैं वहीं कई पुलिस कर्मचारी व अन्य नगदी पकड़ने के नाम पर हैरान गति करने के उद्देश्य से भी खड़े मिलते है व ऐसे मसलों में नगदी लाने वाले से कुछ न कुछ वसूल कर के ही रहते हैं, ऐसे में मार्च से मई माह तक ये हैरानी तब तक रहेगी जब तक चुनाव परिणाम नही आ जाते, फेडरेशन ऑफ टेक्सटाइल्स ट्रेडर्स एसोसिएशन (फोस्टा ) से जुड़े श्री रंगनाथ सारड़ा ने कहा है कि नगदी राशि लाने ले जाने में अब काफी कमी आ जायेगी और इसका सीधा असर कपड़ा कारोबार पर पड़ेगा, यहां तक कपड़े का खुदरा व विशाल मार्केट बॉम्बे मार्केट में भी इस फरमान से रिटेल ग्राहकी प्रभावित होगी, हालांकि चुनाव आयोग का ये कानून कोई नया नही है, लेकिन जब जब चुनावी आचार सहिंता लागू होती है तब तब सेमी होलसेल कपड़ा व्यापार बुरी तरह प्रभावित होता है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer