अंतिम, संक्षिप्त जीएसटी रिटर्न फॉर्म में घोषित कर देनदारी की तुलना कर सकेंगे करदाता

अंतिम, संक्षिप्त जीएसटी रिटर्न फॉर्म में घोषित कर देनदारी की तुलना कर सकेंगे करदाता
हमारे संवाददाता
जीएसटी नेटवर्क की तरफ से 12 मार्च 2019 को कहा गया है कि गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स (जीएसटी) के तहत पंजीकृत कारोबारी इकाइयां अब अंतिम और संक्षिप्त विवरण के साथ भरे गए बिक्री रिटर्न फॉर्म में घोषित कर देनदारी और उनके इनपुट टैक्स क्रेडिट दावे के बारे में भी जानकारी ले सकते है।
दरअसल जीएसटीएन नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को तकनीकी समर्थन उपलब्ध कराता है।जिसके तहत जीएसटीएन ने अंतिम बिक्री रिटर्न यानि जीएसटीआर-1 में घोषित देनदारी को देखने और डाउनलोड करने की सुविधा दी है।इसके साथ ही संक्षिप्त बिक्री रिटर्न यानि जीएसटीआर-3बी में घोषित और भुगतान किए गए कर से संबंधित आंकड़े देखने की भी सुविधा दी है।ऐसे में किसी भी महीने को लेकर जीएसटीआर-ॅ1 अगले महीने की 11 तारीख तक भरी जा सकती है।जिसको लेकर कारोबारियों को जीएसटीआर-3बी रिटर्न और कर भुगतान प्रत्येक महीने 20 तारीख तक करना होता है।जिसको लेकर जीएसटीएन ने अपने बयान में कहा है कि जीएसटीआर-1 और जीएसटीआर-3बी अलग अलग भरे जाते है तो ऐसी स्थिति में एक ऐसी सुविधा की जरुरत है जो कि दोनों फॉर्मो में घोषित कर देनदारी को एक ही जगह पर दिखा सके।जिसको लेकर जीएसटी नेटवर्क की तरफ से कहा गया है कि नई सुविधा करदाताओं को इन दोनों देनदारियों को एक ही जगह देखने में सक्षम बनाती है जिनकी तुलना की जा सकती है।इससे करदाता जीएसटी पोर्टल पर उनके द्वारा फाइल दोनों फॉर्म़ों के बची किसी तरह के अंतर को देख सकेंगे।जिसके जीएसटीएन ने करदाताओं को इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) के आंकड़ों के बारे में जानकारी देने की सुविधा दी है।जिससे वह जीएसटीआर-3बी में घोषित कर देनदारी जीएसटीआर-2ए में अर्जित दावे का पता कर सकता है।जिसके तहत जीएसटीआर-2ए आपूर्तिकर्ता द्वारा जमा किए रिटर्न पर आधारित होता है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer