अनिल अंबानी को अभी लंबी लड़ाई लड़ना है

अनिल अंबानी को अभी लंबी लड़ाई लड़ना है
आगामी महीने सरकार को रु. 281 करोड़ चुकाना है
मुंबई। रिलायंस कम्युनिकेशन (आरकाम) ने स्वीडिश टेलीकाम कंपनी एरिक्शन को 547.86 करोड़ रु. का Iण का भुगतान तो कर दिया लेकिन उनकी समस्या अभी पूरी नहीं हुई है। अनिल अंबानी को एरिक्शन को चुकाने वाली रकम 550 करोड़ रु. का भुगतान तो बड़े भाई मुकेश ने हाल ही में करदिया। इसके लिए बड़े भाई मुकेश और नीता का आभार मानते हुए कहा कि कुटुंब के मूल्यों को अच्छी तरह निभाया।
वर्ष 2014 में एरिक्शन की भारतीय सब्सिडियरी ने आरकाम के साथ करार किया था। जिसके अंतरगत एरिक्शन आरकाम के नेटवर्क का संचालन करना था। गत वर्ष आरकाम ने Iण चुकता नहीं किया था जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा था कि अनिल अंबानी Iण चुकता न करें तो उन्हें तीन महीने की जेल होगी।
अनिल अंबानी हस्तक रिलायंस ग्रुप का कुल Iण 46000 करोड़ रु. है। आरकाम को अभी काफी Iण चुकाना बाकी है उनके लेनदारों में 40 स्थानीय कंपनियां और विदेशी बøक, सरकार और एक पब्लिक रिलेशन कंपनी का समावेश है। कंपनी को आगामी महीने में सरकार को 281 करोड़ रु. चुकाना है वह भारत सरकार के टेलिकाम विभाग को 21 करोड़ चुकाने में डिफाल्टर बनी है।
गत दिसंबर में अनिल अंबानी ने आरकाम टावर, फाइवल और एयरवेब्स परिसंपत्तियों को रिलायंस जियो इंफोकाम को बेचने के लिए निकाला था लेकिन टेलीकाम विभाग के कारण यह सौदा नहीं हो सका।
आरकाम ने हाल ही में एरिक्शन का भुगतान होने के बाद आरकाम का रिलायंस जियो के साथ सौदा रद्द होने की बात कही। यदि यह सौदा हुआ होता तो अनिल अंबानी को 2.4 अरब डालर मिला होता।
अगस्त 2018 में रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने रिलायंस इंफ्रा को नान-कन्वर्टिबल डिबेन्चर्स (एनसीडी) को डाउन ग्रेड किया होता। रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर को अपना मुंबई का पावर बिजनेस अदानी ट्रांसमिशन को बेचना पड़ा था।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer