चीनी उत्पादन 15 मार्च तक 6% बढ़कर 273.47 लाख टन

चीनी उत्पादन 15 मार्च तक 6% बढ़कर 273.47 लाख टन
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । चालू विपणन वर्ष में महाराष्ट्र और कर्नाटक की चीनी मिलों में चीनी का उत्पादन शीघ्र ही शुरु कर दिया गया था। जिससे महाराष्ट्र व कर्नाटक में अब तक चीनी का उत्पादन अपेक्षाकृत अधिक उत्पादन हुआ है।जिसके चलते देश में 15 मार्च तक चीनी का उत्पादन 6 प्रतिशत बढकर 273.47 लाख टन हो गया।वहीं पिछले विपरणन मौसम के तहत देश की चीनी मिलों में में चीनीर का उत्पादन इसी अवधि में 258.20 लाख टन हो गया था।
इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) की तरफ से कहा गया है कि 2018-19 के विपणन वर्ष (अक्टूबर-सितम्बर) में देश की 527 चीनी मिलों में परिचालन में रही थी।जिसके तहत इन चीनी मिलों में अक्टूबर 2018 से लेकर 15 मार्च 2019 तक 273.47 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ है।जिसमें से लगभग 154 चीनी मिलों में चीनी का उत्पादन बंद हो रखी है और अब 373 चीनी मिलों में चीनी का उत्पादन कार्य जारी है।जिसके तहत अब महाराष्ट्र व कर्नाटक की चीनी मिलों में चीनी उत्पादन का परिचालन तेजी से बंद हो रही है और वहां का गन्ना पेराई सत्र समाप्त होने की ओर है।ऐसे में 15 मार्च तक महाराष्ट्र की चीनी मिलों में चीनी का उत्पादन 100.08 लाख टन रहा है जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में चीनी का उत्पादन 93.84 लाख टन रहा था।वहीं उत्तर प्रदेश में 2017-18 विपणन वर्ष में इसी अवधि में चीनी मिलों में चीनी उत्पादन की  84.39 लाख टन रहा था।जबकि उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों में 2018-19 विपणन वर्ष के तहत 15 मार्च तक चीनी का उत्पादन  लगभग 84.14 लाख टन रहा है।जबकि कर्नाटक की चीनी मिलों में पिछले वर्ष इसी अवधि में चीनी का उत्पादन 35.10 लाख टन रहा था जबकि कर्नाटक में चालू विपणन वर्ष में अब तक चीनी का उत्पादन 42.45 लाख टन रहा है।इस्मा की तरफ से इससे पहले चालू विपणन वर्ष में चीनी का उत्पादन 307 लाख टन रहने का अनूमान व्यक्त किया था।जबकि पिछले विपणन वर्ष में चीनी का उत्पादन 325 लाख टन हुआ था।ऐसे में पिछले विपणन वर्ष की तुलना में चालू विपणन वर्ष में चीनी उत्पादन का अनुमान अपेक्षाकृत कम है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer