रुई की पैदावार का अनुमान घटकर 321 लाख गांठ

रुई की पैदावार का अनुमान घटकर 321 लाख गांठ
मुंबई। रुई की मार्च महीने का पैदावार का अनुमान घटाकर 321 लाख गांठ (170 किलो की एक गांठ) का किया है, जो आगामी महीने में 328 लाख गांठ रहा।
काटन एसो. आफ इंडिया (सीएआई) के प्रमुख अतुल एस. गणात्रा ने बताया कि कुछ राज्यों में पानी की तंगी और दूसरी, तीसरी, चौथी कटाई का इंतजार किए बगैर किसानों द्वारा पौध उखाड़ देने से पैदावार का अनुमान घटाया है।
अक्टूबर, 2018 से मार्च 2019 के दौरान कुल कपास की आपूर्ति 290 लाख गांठ रही। इसमें 31 मार्च, 2019 तक 255.83 लाख गांठ की हुई आवक, 6.17 लाख गांठ का आयात और 28 लाख गांठ के खुलते स्टाक का समावेश रहा।
अक्टूबर, 2018 से मार्च, 2019 के दौरान रुई की कुल खपत 158 लाख गांठ होने का अनुमान है, जबकि 39 लाख गांठ का निर्यात हुआ था। 
सितंबर, 2019 तक 2018-`19 के काटन सीजन में रुई की आपूर्ति 376 लाख गांठ होने का अनुमान है। इसमें 28 लाख गांठ का खुलता स्टाक, 321 लाख गांठ की पैदावार और 27 लाख गांठ आयात का समावेश होने के संकेत है। स्थानीय खपत 316 लाख गांठ और निर्यात 47 लाख गांठ रहने की धारणा है। गत वर्ष निर्यात 69 लाख गांठ हुआ था। सीजन के अंत में कैरीफावर्ड स्टाक 13 लाख गांठ रहने का अनुमान है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer