हाफुस और केसर आम का 2500 टन निर्यात लक्ष्य

हाफुस और केसर आम का 2500 टन निर्यात लक्ष्य
पुना। महाराष्ट्र स्टेट एग्रिकल्चर मार्केटिंग बोर्ड (एमएसएएमबी) ने कहा कि इस सीजन में राज्य के कोंकण और मराठवाडा के आम की विख्यात किस्में अल्फान्सो और केसर आम का 2500 टन निर्यात लक्ष्य है। बोर्ड के मैनेजिंग डायरेक्टर सुनील पवार ने उक्त जानकारी देते हुए कहा कि राज्य भर से आम का कुल निर्यात 50,000 टन से अधिक होगा। पवार ने कहा कि गत वर्ष में इन क्षेत्रों से 1200 टन आम का निर्यात किया गया था। देश भर में 44 उपचार सुविधाएं है। महाराष्ट्र में 3 सुविधाएं - वापोर हीट ट्रीटमेंट, इरेडिएशन और हाट वाटर ट्रीटमेंट स्थापित की है। इन सुविधाओं से 2500 टन आम निर्यात का लक्ष्य है।
वोर्ड ने रत्नागिरि, सिंधदुर्ग, जालना, लातुर, बीड और वाशी में निर्यात सहायक केद्र स्थापित किया है। साथ ही निर्यात को प्रोत्साहन देने के लिए ग्राहकों और किसानों के बीच कार्यशालाएं आयोजित की जाती है। सरकारी एजेंसियों ने मेंगोनेट नामक आनलाइन ट्रेसेबिलिटी सिस्टम स्थापित किया है। 8,500 किसानों को इसमें रजिस्ट्रेशन मिला है।
अपेडा ने मेंगोनेट के तहत रजिस्टर्ड किसानों के पास से ही निर्यात के लिए आम खरीदना अनिवार्य बनाया है।
देश से आम के कुल निर्यात में महारष्ट्र का योगदान 90% है। बोर्ड आम के नए बाजार खोजने के लिए भी प्रयत्नशील है। लाटविया, कजाखस्तान मारीशस, दक्षिण कोरिया और मलेशिया नए उभरते बाजार है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer