सभी किसानों हेतु स्वैच्छिक होगा फसल बीमा

सभी किसानों हेतु स्वैच्छिक होगा फसल बीमा
पीएमएफबीवाई में बदलाव करेगी मोदी सरकार
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) में सभी किसानों के लिए फसल बीमा स्वैच्छिक बनाने,ऊंचे प्रीमियम वाली फसलों को हटाने,राज्यों को उत्पादों जोड़ने की छूट देने सहित कई ऐलान हो सकते है।
दरअसल केद्र सरकार की तरफ से पीएमएफबीवाई में ऐसे ही कई बदलाव करने की योजना बना रही है।जिसको लेकर कहा जा रहा है कि केद्रीय कृषि मंत्रालय ने राज्य स्तरीय कॉप्स फंड बनाने और बचत को एक राष्ट्रीय स्तर के इंश्योरेंस रिस्क पुल में शिप्ट करने का प्रस्ताव किया गया है।जिससे लोगों की धारणा को तोड़ी जा सकेगी कि बीमा कंपनियां इस योजना से धन कमा रही है।जिसको लेकर यह भी कहा जा रहा है कि यदि फसल का सिंचित क्षेत्र 50 प्रतिशत से अधिक है तो इसको लेकर योजना के तहत कवरेज को लेकर 25 प्रतिशत प्रीमियम सीमा का भी सुझाव दिया है। इसके साथ ही यदि फसल का सिंचित क्षेत्र 50 प्रतिशत से कम है तो प्रीमियम सीमा 30 प्रतिशत रखने का सुझाव दिया गया है।उल्लेखनीय है कि अप्रैल 2016 में प्रस्तुत पीएमएफबीवाई में गैर रोकथाम वाले प्राकृतिक जोखिम के लिए खरीफ फसलों को 2 प्रतिशत,रबी फसलों को डेढ प्रतिशत और औद्योगिक व वाणिज्यक फसलों को 5 प्रतिशत की दर पर बोआई पूर्व और बोआई बाद अवधि को लेकर व्यापक बीमा योजना उपलब्ध कराई जाती है।जिसको लेकर कहा जा रहा है कि पीएमएफबीवाई को लागू हुए सातवां सीजन है।इस योजना के क्रियान्वयन के तहत कई चुनौतियां सामने आई और कृषि मंत्रालय ने इन कमियों की पहचान की है और कई बदलाव का प्रस्ताव किया है।इसके साथ ही इस संबंध में राज्य सरकारों से विचार मांगे गए है।जिस विचार आने के बाद केद्र सरकार की तरफ से पीएमएफबीवाई में बदलाव को अंतिम रुप प्रदान करेगी ताकि किसानों को खेती-किसानी में व्यापक रुप से सहूलियत मिल सकेगी।जिससे किसानों को 2022 तक आमदनी दोगुनी करने का रास्ता साफ हो सकेगा।जिसको लेकर मोदी सरकार कटिबद्व है और जोरशोर से इस कार्य में जुटी हुई है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer