अमेरिका में लेब ग्रोन डायमंड बेचने के लिए भारत को भारी अवसर

हमारे प्रतिनिधि
मुंबई। लेब ग्रोन डायमंड से निर्मित ज्वेलरी में दुनिया के उत्पादन में लगभग आधा योगदान देने वाले कीमती रत्नों और धातुओं के सबसे बड़े उपभोक्ता यूएस में भारत के कुल मिलाकर 14 अरब मूल्य के निर्यात में से लगभग 2 प्र.श. हिस्सा हासिल करने की संभावना है।
भारतीय निर्यातकों के लिए सबसे विशाल बाजार यूएस में निर्यात इस वर्ष 280 मिलियन डालर पर पहुंचने का अनुमान है, लेब ग्रोन डायमंड एंड ज्वेलरी प्रमोशन काउन्सिल के चेयरमैन शशिकांत शाह ने यहां काउन्सिल द्वारा आयोजित भारत के प्रथम बीटूबी इंटरनेशनल ट्रेड एक्जिबिशन इंटरनेशनल लेब ग्रोन डायमंड एंड ज्वेलर एक्सपो 2019 के उद्घाटन समारोह में कही।
यूएस के ग्राहक आक्रामक रूप से लेब ग्रोन डायमंड ज्वेलरी की खरीदी कर रहे हø। भारतीय निर्यातकों को क्रिसमस, नए वर्ष और महिला दिवस सहित आगामी त्योहारी मौसम के लिए अधिक आर्डर मिला है। हमारे अंदाज के अनुसार यहां जेम्स एंड ज्वेलरी के कुल निर्यात में से यूएस बाजार का लगभग 2% हिस्सा लेब ग्रोन डायमंड ज्वेलरी प्राप्त करेगी। चार दिवसीय इस एक्सपो के उद्घाटन में जेम्स, ज्वेलरी एंड प्रीसियस मेटर कांफेडरेशन आफ थाइलड की टीजीआईटीए सोमचाई फोर्नचिंडार्क, थाइलड की टीजीआईटीए के वाइस प्रेसिडेंट अतुल जोगाणी, भारत डायमंड बुर्स के वाइस प्रेसिडेंट महेद्र गांधी, लक्ष्मी डायमंड के अशोक गजेरा, काउन्सिल के कन्विनर राजेश बजाज उपस्थित रहे।
सोमचाई ने कहा कि विकसित ज्वेलरी बाजार में इस डायमंड की खरीदी-बिक्री करने, बीटूबी सेगमेंट के लिए संपर्क विकसित करने के लिए इसका आयोजन किया गया है।
प्रदर्शनी में खासकर लेब ग्रोन डायमंड कलेक्शंस प्रदर्शित करने के लिए गुजरात और दरियापार सहित भारतभर से 70 ब्रांड्स ने उपस्थिति दर्ज की है। इस प्रदर्शनी में 3500 ट्रेड बायरों और विजिटरों के साथ हीरा उद्योग में नया प्रवाह दिखायी दिया।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer