इचलकरंजी के टेक्सटाइल उद्योग को रु.125 करोड़ का नुकसान

इचलकरंजी के टेक्सटाइल उद्योग को रु.125 करोड़ का नुकसान
प्लेन  पावरलूम को भारी नुकसान जबकि आटो लूमों को कम नुकसान
देवचंद देड़ा
मुंबई। कोल्हापुर-सांगली में भारी वर्षा ने भारी तबाही मचायी है। उसके पास स्थित इचलकरंजी पावरलूम उद्योग को लगभग 125 करोड़ रु. के आसपास नुकसान हुआ है। नदी किनारे नीचले क्षेत्र में स्थित पावरलूम कपड़े की इकाइयों के एक सप्ताह तक पानी में डूबे रहने से उनकी यंत्र सामग्री, कच्ची सामग्री, बीम, कपड़े के ताका आदि भीग गए है। इसके अलावा बिजली आपूर्ति अस्त-व्यस्त हो जाने से उत्पादन प्रभावित हुआ है। रोड-रास्ता और परिवहन प्रभावित होने से कामकाज पर भी असर हुआ है।
इचलकरंजी के अग्रणी वीवर ने कहा कि प्लेन सादा पावरलूम को अधिक नुकसान हुआ है। इसके अलावा इस समय मंदी का माहौल है और ग्राहकी बिल्कुल नहीं है। इससे इचलकरंजी के ग्रे कपड़े के भाव नरम रहे है।
इचलकरंजी पावरलूम एसोसिएशन के चेयरमैन सतीश कोष्टी ने कहा कि इचलकरंजी के नदी किनारे स्थित हजारों पावरलूम इकाइयां मुश्किल में आ गई है। उनका पुनरुत्थान न होने पर इचलकरंजी के भारत का मांचेस्टर होने की जो साख है वह धूमिल हो जाएगी।
इचलकरंजी पावरलूम एसोसिएशन के पास उपलब्ध जानकारी के अनुसार 256 कारखानें पानी में डूबे थे। इनमें 3718 पावरलूम है। नुकसान का यह आंकड़ा बढ़ने की धारणा है।
इचलकरंजी में 9000 लोगों बाढ़ के कारण विस्थापित हुए है और बेघर हो गए है। इसमें पावरलूम मजदूरों और कारखानावालों का भी समावेश है। महेश्वरी समाज के 250 लोग विस्थापित हो गए है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer