जम्मू-कश्मीर में उद्योगपतियों को राहत पैकेज की प्रतीक्षा

जम्मू-कश्मीर में उद्योगपतियों को राहत पैकेज की प्रतीक्षा
जम्मू-कश्मीर में 12-13 अक्टूबर को वैश्विक निवेशक सम्मेलन
रमाकांत चौधरी 
नई दिल्ली । बेरोजगारी की मार झेल रहे जम्मू-कश्मीर को लेकर आने वाले दिन रोजगार के नए अवसर लेकर आएंगे।म्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद देश के अग्रणी औद्योगिक घराने जम्मू कश्मीर में निवेश करने को लेकर विशेष रुप से उत्सुक है। ऐसे में प्रधानमंत्री की अपील के बाद कई उद्योगपतियों ने तो निवेश की घोषणा भी कर दी है और कई केद्र सरकार द्वारा जारी किए जाने वाले पैकेज की प्रतीक्षा कर रहे है।जिसके तहत जम्मू कश्मीर प्रशासन उद्योगपतियों को लुभाने को लेकर जम्मू-कश्मीर में 12 से 14 अक्टूबर 2019 को वैश्विक निवेशक सम्मेलन आयोजित करने जा रा है।
दरअसल जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के तुरन्त बाद पंजाब के ट्राइटेंड समूह नू जम्मू कश्मीर के दस हजार परिवारों को रोजगार देने का वादा किया है।वहीं पॉलिसी बाजार ने चार हजार रोजगार देने की बात कही है।जबकि उदय कोटक, अमूल इंडिया और हेलमेट बनाने वाली स्टीलबर्ड कंपनी ने जम्मू कश्मीर में भारी भरकम निवेश करने की घोषणा की है।इसीबीच रिलायंस समूह के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने अपनी कंपनी की एजीएम में जम्मू कश्मीर में निवेश करने की इच्छा जतलाई है।वहीं कई अन्य औद्योगिक समूह जो कि पहले से ही जम्मू कश्मीर में निवेश कर चुके है वह अब कारोबार का दायरा बढाना चाहते हø। जिनमें लेन ट्री समूह का गुलमर्ग और सोनमर्ग में होटल बनाने का प्रस्ताव किया है।वैसे तो इस समूह ने पहले से ही जम्मू कश्मीर में तीन होटल बनाए हुए है।इसके अतिरिक्त रेडिसन,डाबर,बर्जर पेंट,सन फार्मा,कैडिला जम्मू कश्मीर में पहले से ही है। वहीं जम्मू चबर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्रीज के प्रधान राकेश गुप्ता ने कहा कि जम्मू कश्मीर में उद्योग आने से सबसे अधिक लाभ यहां के युवाओं को मिलेगा।वहीं जम्मू कश्मीर के इंडस्ट्री एण्ड कॉमर्स विभाग के प्रमुख सचिव नवीन कुमार चौधरी ने कहा कि 12 से 14 अक्टूबर 2019 तक होने वाले वैश्विक निवेशक सम्मेलन के प्रचार प्रसार को लेकर दुबई,लंदन,नीदरलड,सिंगापुर और मलेशिया में रोड शो किए जाएंगे।वहीं दिल्ली,मुंबई,हैदराबाद,बेंगलुरु,चेन्नई,कोलकाता और अहमदाबाद में राष्ट्रीय स्तर के रोड शो होंगे।इस सम्मेलन का उद्घाटन श्रीनगर में 12 अक्टूबर 2019 को शेरे कश्मीर इंटरनेशनल कंवेंशन सेंटर (एसकेआसीसीर) में होगा और समापन 14 अक्टूबर 2019 को जम्मू विश्वविद्यालय में होगा।जिसे जम्मू कश्मीर ट्रेड प्रमोशन आर्गेनाइजेशन सम्मेलन आयोजन करने वाली नोडल एजेंसी के हाथों में है और भारतीय उद्योग परिसंघ सम्मेलन का राष्ट्रीय पार्टनर होगा।जिसको लेकर अर्नेस्ट एण्ड यंग व प्राइज वाटरहाउस कूपर्स कंपनियां इस आयोजन में सहयोग करेंगी।श्री चौधरी ने कहा कि यह सम्मेलन तीन महीने पहले से तय था।जिसका अनुच्छेद 370 हटने से कोई लेनादेना नहं है।वहीं बड़ी ब्राहमणा इंडस्ट्रीज एसोसिएश के प्रधान ललित महाजन ने कहा कि जम्मू कश्मीर में हस्तशिल्प क्षेत्र में काफी संभावनाएं है।जबकि फूड प्रोसेसिंग ऐसा क्षेत्र है जिसमें कच्चा माल आसान से उपलब्ध है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer