शक्कर में कामकाज कमजोर किराना जिंसो में ग्राहकी सामान्य

हमारे संवाददाता  
 किराना सामग्रियों में भारी महंगाई के बावजूद ग्राहकी सामान्य बताई जा रही है। किराना में उपरी भाव के सट्टे  होने से तेजी भी बनती जा रही है । शक्कर में भारी उत्पादन स्टॉक के चलते पूछगछ और कामकाज में कमी होना बताई जा रही है। हालांकि उपरी भाव पर व्यापारिक मांग भी कमजोर होना बताई जा रही है इससे गत् हप्ते थोक भाव 3470 से 3510 रु. में लगभग 10-12 रु. की मंदी होना बताई जा रही थी। शक्कर में इस वर्ष भारी उत्पादन 250 लॉख टन होने की कवायद है। अगले वर्ष के समीकरण भी भारी उत्पादन की संभावना के बावजूद शक्कर पर तेजी 3400 से बढ़ते 3500 रु. के उपर तक आकार्य का विषय है । साबुदाना मध्यम बोरी का भाव 6850 से 6950 रु. और सच्चा मोती का भाव 7200 रु. और पैकिंग में 7570  और वरलक्ष्मी का भाव 7750 रु. खुले में और पैकिंग 1 किलो में 8150 रु. तक बताया गया ।
 नारियल की श्रद्धा, श्रीफल जैसे व्यवहार से खूब मांग फूलती है। आगे त्योहारी मांग नारियल में की लगातार होने से मांग अनुसार तेजी की धारणा भी बताई जा रही है। स्थानीय सियागंज मंडी में गत् हप्ता कुछ किराना आयटम में नारियल 250 भरती में भाव 1550 से 1600 रु. तक हो गया था। अच्छे गोला का भाव 170 और बुरा व्हील का भाव 3500 रु. तक था । हल्दी वायदे में मंदी रही मगर हाजिर में स्टाक की कमी या उत्पादन केंद्रो पर आवक की कमी से तेजी होना बताई जा रही थी। हाजिर में भाव निजामाबाद कांडी 10500 रु. और सांगली का भाव 13300 रु. तक होना बताया जा रहा था । हालांकि हल्दी की खपत घरों में सीमित ही चलती है और विशेषकर बरसात में उठाव होता भी नहीं है । कालीमिर्च मसाला का भाव उतरकर 405 रु. तक आ गया है। गत् हप्ते भी कालीमिर्च में मंदी का असर था और मंदी की धारणा भी बताई जा रही थी । देश में गत् वर्ष जीरे की फसल अच्छी हुई थी और स्टाकिस्ट और निर्यातकों की भारी खरीदी से देश में ही भारी बढ़ गये है । जीरा भाव अब 250 रु. किलो खेरची बाजार में बताया जा रहा है । 

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer